Thursday, April 9, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

दिल्ली हाईकोर्ट की CBSE को नसीहत , कहा- हिंसा प्रभावित इलाकों में बोर्ड परीक्षा के लिए स्थाई समाधान खोजें , छात्र तनाव में हैं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली हाईकोर्ट की CBSE को नसीहत , कहा- हिंसा प्रभावित इलाकों में बोर्ड परीक्षा के लिए स्थाई समाधान खोजें , छात्र तनाव में हैं

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार को उत्तर पूर्वी जिले में हिंसा के मामले को लेकर दायर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सीबीएसई (CBSE ) को नसीहत दी । कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि सीबीएसई को  हिंसा प्रभावित नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में बोर्ड एग्जाम को लेकर स्थाई इंतजाम करने होंगे । हाई कोर्ट ने सीबीएसई से कहा कि एक-एक दिन एग्जाम टालने से छात्रों की दिक्कतें खत्म नहीं हो रही है, बल्कि उनकी टेंशन और बढ़ रही है, इसलिए बोर्ड जल्द से जल्द उनकी परीक्षाओं को लेकर कोई स्थाई समाधान खोजें । 

बता दें कि दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई थी , जिस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने दिल्ली पुलिस की जमकर फटकार लगाई । असल में पुलिस का कहना था कि उन्होंने अभी तक इस हिंसा को भड़काने के कथित भाजपा नेता कपिल मिश्रा के बयान को नहीं देखा है । इसके बाद जज ने कोर्ट में ही कपिल मिश्रा के विवादित बयान को दिखाए जाने के लिए कहा । इसके साथ ही भाजपा नेता प्रवेश वर्मा और अनुराग ठाकुर के बयान को देखा गया , जो उन्होंने दिल्ली विधानसभा चुनावों के दौरान दिए थे । इस दौरान ही कोर्ट ने सीबीएस से कहा कि वह हिंसा प्रभावित इलाकों के छात्रों की बोर्ड परीक्षा को लेकर कोई स्थायी समाधान खोजें ।  छात्रों की परीक्षा टलने से वह तनाव में हैं । यह स्थिति छात्रों के लिए अच्छी नहीं है । 


विदित हो कि उत्तर पूर्वी जिले में हुई हिंसा के चलते दिल्ली सरकार ने इस जिले में होने वाली बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित कर दिया था । सीबीएसई ने भी इसके संबंध में एक सर्कुलर जारी किया था । हालांकि अपनी परीक्षा को लेकर कई छात्रों में चिंता देखी गई और लोग सोशल मीडिया से लेकर अलग-अलग माध्यम से अपनी चिंता और अपनी जिज्ञासा को शांत करते देखे गए।

Todays Beets: