Friday, November 27, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

बिहार के मुंगेर में हिंसा तोड़फोड़ , थाने के बाहर आगजनी - हंगामा , SP - DM हटाए गए 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार के मुंगेर में हिंसा तोड़फोड़ , थाने के बाहर आगजनी - हंगामा , SP - DM हटाए गए 

मुंगेर । बिहार विधानसभा चुनावों के पहले चरण के मतदान के अगले ही दिन गुरुवार सुबह मुंगेर में जमकर हिंसा हुई । मूर्ति विसर्जन के दौरान हुई हिंसा की घटना को लेकर हुए बवाल के बाद गुस्साए लोगों ने पूरब सराय थाने में आग लगा दी है । इस दौरान हुई गोलाबारी में कई लोगों के घायल होने की खबर है । चुनाव आयोग ने हालात देखते हुए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को हटाने का आदेश दिया है । साथ ही मगध के डिविजन कमिश्नर से 7 दिन में जांच रिपोर्ट मांगी गई है। 

मिली जानकारी के अनुसार , गुरुवार दोपहर सैकड़ों की संख्या में युवाओं ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर प्रदर्शन किया । वहां हंगामा करने के बाद ये उन्मादी भीड़ पूरब सराय थाने पहुंची। इस दौरान उपद्रवियों ने थाने के सामने खड़ी गाड़ी को आग के हवाले कर दिया गया। 

इसके बाद मौके पर अतिरिक्त पुलिस फोर्स भेजी गई है । फिलहाल, मुंगेर का माहौल तनावपूर्ण है और जगह-जगह पर पुलिस फोर्स की तैनाती की गई है।


गोलीकांड पर मुंगेर के डीएम का कहना है कि दीनदयाल चौक पर उपद्रव और फायरिंग की जो घटना हुई थी, उसके बाद हालात को नियंत्रित किया गया । निश्चित तौर पर यह मुंगेर के लोगों के कारण ही संभव हो पाया था कि शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न हुआ । लेकिन कुछ असामाजिक तत्वों के द्वारा बहुत बड़ी साजिश रची गई थी और उसी साजिश के कारण यह घटना घटी है जिसका बहुत जल्द खुलासा हो जाएगा। 

उन्होंने कहा कि पुलिस पर फायरिंग का आरोप लगा है तो एक बात स्पष्ट तौर पर हम लोग कहना चाहते हैं कि किसी प्रकार के बल प्रयोग का कोई आदेश नहीं दिया गया था और पुलिस पर लगे आरोपों की जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है। 

 

Todays Beets: