Wednesday, August 5, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

कानपुर में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई पुलिस टीम पर अंधाधुंध फायरिंग , डिप्टी एसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कानपुर में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई पुलिस टीम पर अंधाधुंध फायरिंग , डिप्टी एसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद

कानपुर । उत्तर प्रदेश में पुलिस का राज कामय करने के लिए पिछले कुछ सालों में यूपी पुलिस ने राज्य के बदमाशों और हिस्ट्रीशीटरों पर पूरी शिकंजा कसा हुआ है । इसी कड़ी में कानपुर में एक हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने अंधाधुंध फायरिंग की , जिसमें एक डिप्टी एसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए हैं । वहीं इस हमले में 7 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं । पुलिस विकास दुबे नाम के हिस्ट्रीशीटर को दबोचने गई है , जिसपर पहले भी पुलिस वालों पर हमले और भाजपा नेता की हत्या समेत 60 मुकदमे दर्ज हैं। वहीं इस मामले को लेकर भी राजनीति शुरू हो गई है । कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस घटना को लेकर भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया - राज्य में पुलिस सुरक्षित नहीं है , लोग कैंसे होंगे । उधर इस हमले के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव गृह से बात की है ।

बता दें कि घटना कानपुर के चौबेपुर थाना इलाके की है , जहां पुलिस ने बिकरू गांव में दबिश दी । पुलिस यहां हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई थी । दबिश के दौरान बदमाशों ने पुलिस टीम को चारों और से घेर लिया और उनपर अंधाधुंध फायरिंग की । इसमें एक डिप्टी एसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए । विकास दुबे वही अपराधी है, जिसने राजनाथ सिंह सरकार में मंत्री का दर्जा पाए संतोष शुक्ला की थाने में घुसकर हत्या की थी । 

बताया जा रहा है कि बिल्हौर के सीओ देवेंद्र मिश्र, शिवराजपुर के एसओ महेश यादव, दो सब इंस्पेक्टर और 4 सिपाही शहीद हो गए । इसके अलावा 7 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, जिनमें कई की हालत गंभीर है । 

उत्तर प्रदेश के डीजीपी एचसी अवस्थी ने कहा कि विकास दुबे के खिलाफ कुछ दिन पहले हत्या के प्रयास का केस दर्ज किया गया था । पुलिस विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई थी , जैसे ही फोर्स गांव के बाहर पहुंची तो वहां जेसीबी लगा दी गई । इस वजह से फोर्स की गाड़ी गांव के अंदर नहीं जा सकी ।

मुठभेड़ में शहीद हुए पुलिसकर्मियों के नाम

1-देवेंद्र कुमार मिश्र,सीओ बिल्हौर

2-महेश यादव,एसओ शिवराजपुर


3-अनूप कुमार,चौकी इंचार्ज मंधना

4-नेबूलाल, सब इंस्पेक्टर शिवराजपुर

5-सुल्तान सिंह कांस्टेबल थाना चौबेपुर

6-राहुल ,कांस्टेबल बिठूर

7-जितेंद्र,कांस्टेबल बिठूर

8-बबलू कांस्टेबल बिठूर

वही इस घटना पर राहुल गांधी ने शुक्रवार सुबह ट्वीट कर लिखा कि यूपी में गुंडाराज का एक और प्रमाण । जब पुलिस सुरक्षित नहीं, तो जनता कैसे होगी? मेरी शोक संवेदनाएं मारे गए वीर शहीदों के परिवारजनों के साथ हैं और मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं । वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा बदमाशों को पकड़ने गई पुलिस पर बदमाशों ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी जिसमें यूपी पुलिस के सीओ, एसओ सहित 8 जवान शहीद हो गए. यूपी पुलिस के इन शहीदों के परिजनों के साथ मेरी शोक संवेदनाएं ।

Todays Beets: