Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

यूपी विधानसभा उपचुनावों में 'बुआ' देगी 'बबुआ' को पटखनी , राज्य में नंबर-2 की पार्टी बनने के लिए बनाई रणनीति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी विधानसभा उपचुनावों में

लखनऊ । लोकसभा चुनावों में सपा-बसपा के गठबंधन को तो सफलता नहीं मिली , लेकिन अगर बात बहुजन समाज पार्टी की करें तो उसे जरूर लाभ हुआ । पार्टी शून्य से 10 के आंकड़े पर पहुंच गई है । दोनों ही दलों के नेताओं ने इस गठबंधन को लेकर बयान दिए । मायावती ने तो यहां तक कह दिया कि अगर सपा ने अपना व्यवहार और कार्यशैली नहीं बदली तो उनके रास्ते आगे अलग अलग होंगे । हालांकि अब आंकड़ों में सामने आ रहा है कि बसपा के वोट सपा की तरफ नहीं गया। इस सब के बीच अब 'बुआ' मायावती ने 'बबुआ' अखिलेश यादव को उपचुनावों में एक ओर पटखनी देने की रणनीति बनाई है । सूत्रों के अनुसार , बसपा सुप्रीमो की रणनीति है कि वह आगामी विधानसभा के उपचुनावों में बेहतर प्रदर्शन कर लोकसभा चुनावों की तरह यूपी में अपने नंबर-2 होने की हैसियत बरकरार रखना चाहिए, जिसका लाभ उसे 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों में मिलेगा ।

मायावती बढ़ाना चाहेगी अपने विधायकों की संख्या

403 सीटों पर हुए यूपी विधानसभा चुनावों में बसपा को महज 19 सीटें मिली थीं । पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा की लहर और सपा-कांग्रेस गठबंधन से अकेले लोहा लेकर भी मायावती ने अपने वोट बैंक बचाए रखा था । ऐसे में विधानसभा उपचुनावों में एक बार फिर मायावती अकेले मैदान में उतरने की रणनीति बना रही हैं। मायावती अपने विधायकों की संख्या बढ़ाना चाहती हैं, इसी के चलते वह चाहती है कि 11 सीटों में से 4 से 5 सीटों पर उनका कब्जा हो। लोकसभा चुनाव की तरह ही विधानसभा के उपचुनाव में भी बसपा (BSP) के लिए हारने को कुछ है नहीं । लेकिन पाने के लिए लोकसभा चुनावों की तरह सीटें । ऐसे में बसपा ने गठबंधन के बैगर ही उपचुनाव में अकेले हाथ अजमाने की सोची है ।

उपचुनाव तय करेंगे बसपा की आगे की रणनीति

असल में विधानसभा चुनावों में अपने दम पर 19 सीटें पाने वाली बसपा ने अपने वोट बैंक को तो बताया हो, लेकिन राज्य में उनकी हैसियत कम हो गई थी । गत लोकसभा चुनावों में गठबंधन के साथ चुनावी मैदान में उतरने से उन्हें 10 सीटों पर जीत मिली । हालांकि मायावती सपा पर आरोप लगाती रही कि उनके कार्यकर्ताओं ने साथ नहीं दिया । इन बातों के साथ ही मायावती ने जहां उपचुनावों में अकेले लड़ने और आगे सपा के साथ गठबंधन जारी रखने संबंधी सभी विकल्प खुले रखे हैं । लेकिन यह बात सही है कि आगामी उपचुनाव तय कर देंगे कि बसपा को आगे की राजनीति अकेले करनी है या गठबंधन के साथ ।

सभी सांसदों को 2022 के लिए जुटने को कहा


देश की राजनीति की गति और दिशा - दशा के लिए आगामी 2022 में यूपी विधानसभा चुनाव एक अहम कड़ी साबित होंगे । यूपी में जो योगी सरकार को झटका देगा , वह विपक्ष के बड़े नेता के रूप में उभरेगा । यही कारण है कि मायावती ने अपने सभी 10 सांसदों को आगामी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी में जुट जाने को कहा है । इस सब के बीच राजनीति दल अपनी कार्यशैली और गठबंधन की ताकत को लेकर समीक्षा कर रहे हैं।

 

 

 

 

 

Todays Beets: