Sunday, October 20, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

गाजियाबाद - नोएडा वालों के लिए एक बुरी खबर , अगले 26 दिन झेलनी पड़ेगी यह परेशानी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गाजियाबाद - नोएडा वालों के लिए एक बुरी खबर , अगले 26 दिन झेलनी पड़ेगी यह परेशानी

नई दिल्ली । राष्ट्रीय राजधानी के दो शहर गाजियाबाद और नोएडा में रहने वाले लोगों के लिए एक बुरी खबर है । असल में आज गुरुवार 3 अक्तूबर से आगामी 29 अक्तूबर तक इन शहरों की जनता को गंगाजल की सप्लाई नहीं होगी । इस समयावधि में गंगनहर की सफाई के चलते यह फैसला लिया गया है । इस सब के चलते अब गाजियाबाद नगर निगम , गाजियाबाद विकास प्राधिकरण और नोएडा प्राधिकरण आने वाले वाले दिनों में अपने अपने क्षेत्र में ट्यूबवेल  , नलकूपों और रेनीवेल की मदद से जलापूर्ति का काम करेंगे । इस दौरान लोगों को दशहरा और दीपावली के दौरान गंगाजल से वंचित रहना होगा । 

विदित हो कि प्रतिवर्ष दीपावली से पहले और मानसून के खत्म होने के बाद गंगनहर की सफाई का काम शुरू होता है । असल में मानसून के दौरान नगर में पहाड़ों से बहकर आई सिल्ट को साफ करने का काम किया जाता है। इस सब के चलते प्रतिवर्ष इस काम के चलते गंगाजल की आपर्त बाधित हो जाती है । इस बार यह तारीखें 3 अक्टूबर से 29 अक्टूबर तय की गई है । 


बता दें कि एनसीआर के ये दो शहर (नोएडा - गाजियाबाद) देश में भूजल को लेकर सबसे खारे पानी वाले टॉप 5 शहरों में आते हैं । अमूमन ऐसा माना जाता है कि 500 टीडीएस यानी टोटल डिसॉल्वब सॉलिड वाला पानी ठीक माना जाता है , लेकिन इसके बाद जैसे ही टीडीएस बढ़ता है लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है । जबकि आलम यह है कि नोएडा में दो हजार टीडीएस तक का पानी आता है । 

 

Todays Beets: