Monday, August 10, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

राजस्थान ऑडियो टेप कांड- कोर्ट के आदेश के बावजूद आरोपियों ने नहीं दिया वॉयस सैंपल , अब कोर्ट सुनाएगी फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजस्थान ऑडियो टेप कांड- कोर्ट के आदेश के बावजूद आरोपियों ने नहीं दिया वॉयस सैंपल , अब कोर्ट सुनाएगी फैसला

जयपुर । राजस्थान सरकार के विधायकों की खरीद फरोख्त से जुड़े मामले में जिन नेताओं का नाम सामने आया है , उन नेताओं ने शनिवार को अपना वॉयस सैंपल देने से मना कर दिया है। इससे पहले इस मामले में कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने दो शिकायतें दर्ज कराई हैं । हालांकि अभी इस ऑडियो क्लिप की सत्यता की जांच की जा रही है । लेकिन इसमें शामिल आरोपियों द्वारा अपना वॉयस सैंपल देने से मना करने के बाद अब इस मामले में कोर्ट द्वारा फैसला सुनाया जाएगा । 

बता दें कि राजस्थान में सियासी संग्राम अपने चरम पर पहुंच गया है । भाजपा और कांग्रेस दोनों एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं । इस सबके बीच विधायकों की खरीद फरोख्त से जुड़े मामले में अशोक सिंह और भरत मलानी को आरोपी बनाया गया है । कोर्ट ने आरोपियों को अपना वॉयल सैंपल देने के आदेश दिए हैं , लेकिन बावजूद इसके आरोपियों ने वॉयस सैंपल देने से मना कर दिया है । 


विदित हो कि राजस्थान में ऑडियो टेप लीक होने के बाद से स्पेशल ऑपरेश ग्रुप (एसओजी) भी एक्शन में है ।  एसओजी ने इस मामले में अशोक सिंह नामक शख्स को हिरासत में लिया गया है ।  अशोक सिंह पर आरोप है कि उसने भरत मलानी नाम के शख्स के साथ मिलकर लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई सरकार के खिलाफ साजिश रची । इस मामले में एसओजी ने अशोक सिंह की बातचीत का टेप एडीजे कोर्ट में पेश किया । वहीं अशोक सिंह ने जयपुर की एडीजे कोर्ट में जमानत की अर्जी लगाई , जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया। इसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया । 

Todays Beets: