Thursday, November 21, 2019

Breaking News

   INX मीडिया केस: पी चिदंबरम को झटका, दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका     ||   वकील VS पुलिस मामला: HC ने कहा- जांच पूरी होने तक पुलिस पक्ष से नहीं होगी गिरफ्तारी     ||   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||

पवार से उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद बोले संजय राउत , शिवसेना खुद भी जुटा सकते है बहुमत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पवार से उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद बोले संजय राउत , शिवसेना खुद भी जुटा सकते है बहुमत

मुंबई । महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के परिणाम आने के बाद अभी तक सरकार गठन को लेकर कोई हलचल नजर नहीं आ रही है । जहां भाजपा शिवसेना गठबंधन बहुमत का आंकड़ा पार करने के बावजूद सीएम की उम्मीदवारी के लिए 50-50 के फॉर्मूले को लेकर गतिरोध की स्थिति में है , वहीं दोनों ही दल अंदरखाने अपनी अपनी रणनीति बना रहे हैं । इस सब के बीच गुरुवार शाम शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की , जिसके बाद शुक्रवार सुबह शिवसेना नेता संजय राऊत ने ट्वीट कर संदेश दिया कि वो भाजपा के बिना भी बहुमत का आंकड़ा जुटा सकते हैं । संजय राउत ने ट्विटर पर लिखा, ‘साहेब! मत पालिए, अहंकार को इतना, वक्त के सागर में कई सिकंदर डूब गए।’ हालांकि, संजय राऊत ने इस ट्वीट में किसी का नाम नहीं लिया लेकिन उनका इशारा भाजपा की ओर है । उन्होंने कहा कि शरद पवार राज्य के बड़े नेता हैं, उनसे मुलाकात के कुछ और मायने नहीं निकालने चाहिए । संजय राउत ने कहा कि अब जनता शिवसेना का मुख्यमंत्री चाहती है ।

विदित हो कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में भाजपा-शिवसेना ने विपक्षी दलों को मात देने के लिए गठबंधन किया था और बहुमत का आंकड़ा भी छू लिया । लेकिन बहुमत पाने के बाद शिवसेना सीएम पद के लिए 50-50 के फॉर्मूले पर अड़ गई है । शिवसेना का कहना है कि ढाई साल पहले उनका सीएम होगा और बाद से ढाई साल भाजपा का । लेकिन भाजपा इससे सहमत नहीं है । इसी मुद्दे को लेकर दोनों दलों के नेताओं के बीच गतिरोध और बातचीत का सिलसिला जारी है । 

दरअसल, शिवसेना विधायक दल की बैठक के बाद जब संजय राउत ने NCP प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की तो इस मुलाकात के कई मायने निकाले जाने लगे थे । संजय राउत की ओर से तो इसे सिर्फ दिवाली मिलन जैसा ही बताया गया है, लेकिन इसका संदेश काफी आगे तक गया । इस सब के बाद अब उद्धव ठाकरे का शरद पवार से मिलना आने वाले दिनों में कोई नई कहानी गढ़ सकता है । 


बहरहाल, इस सब के बीच कांग्रेसी नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने पिछले दिनों कहा कि अगर शिवसेना उनके सरकार के मुद्दे पर बात करेगी तो वह आगे इस मुद्दे पर बात कर सकते हैं । इस सब के बाद गुरुवार शाम उद्धव ठाकरे NCP प्रमुख शरद पवार से जाकर मिले । दोनों नेताओं के बीच करीब 30 घंटे बातचीत हुई । इस सब के बाद शुक्रवार सुबह शिवसेना के दिग्गज नेता संजय राऊत ने ट्वीट कर भाजपा को चेतावनी दी । संजय राउत का कहना है कि लिखकर ले लीजिए, मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा । इसके अलावा उन्होंने ट्वीट के जरिए भी बिना नाम लिए भाजपा पर निशाना साधा । संजय राउत ने कहा कि जिनके पास बहुमत नहीं है, वह सरकार बनाने की ना सोचें । भाजपा की ओर से कैबिनेट पद के ऑफर पर उन्होंने कहा कि हम लोग कोई ट्रेडर नहीं हैं । शिवसेना अकेले दो तिहाई बहुमत जुटा सकती है । 

बता दें कि गुरुवार को हुई शिवसेना विधायक दल की बैठक से पहले भी संजय राउत ने तीखे तेवर दिखाए थे और कहा था कि हम अपनी मांग से पीछे नहीं हटे हैं, अगर कोई वादे से मुकरा है तो वह हमारे दोस्त (भाजपा) है। 

Todays Beets: