Tuesday, July 16, 2019

Breaking News

   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||   मनी लॉन्ड्रिंग कानून से जुड़ी कांग्रेस सांसद की याचिका पर SC का केंद्र सरकार को नोटिस    ||   पीएम मोदी लोकसभा में ट्रिपल तलाक बिल पास करने के वक्त सांसदो की कम उपस्थिती पर नाराज    ||   सोनिया गांधी ने लोकसभा में रायबरेली की रेल कैच फैक्टरी का मुद्दा उठाया    ||   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||

फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में पारिवारिक मतभेद अभी भी पूरी तरह से खत्म नहीं हुए हैं। इस बात का अंदाजा शिवपाल सिंह यादव के इस बयान से लगाया जा सकता है कि जिसमें उन्होंने कहा कि ‘‘अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो वे आज राज्य के मुख्यमंत्री होते’’। उन्हांेने कहा कि उत्तरप्रदेश के साथ ही बिहार में भी उनकी सरकार बनी होती। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि उन्होंने अखिलेश और उनके भाई धर्मेंद्र यादव को गोद में खेलाया है और उनकी शादी भी कराई लेकिन आज के युवा अब बड़ों की बात नहीं सुनते हैं। 

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में चुनाव के दौरान मुलायम सिंह यादव और उनके परिवार की अंदरूनी कलह खुलकर सामने आ गई थी। उन्होंने कहा, ‘‘अगर बड़ों की बात मानी गई होती तो आज प्रदेश में सपा की सरकार होती और अखिलेश मुख्यमंत्री होते और बिहार में भी सपा सरकार बनी होती’’। शिवपाल सिंह ने पार्टी के सभी पदाधिकारियों से एकजुट रहें और लोगों को भी एकजुट रहें। 


ये भी पढ़ें - दिल्ली के व्यापारियों को मिलेगी सीलिंग से निजात, मास्टर प्लान 2021 में संशोधन पर मंत्रालय ने ...

आपको बता दें कि बसपा के साथ किए जा रहे गठबंधन पर उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार करते हुए कहा कि वह राष्ट्रीय अध्यक्ष की सूझबूझ पर कोई सवाल नहीं उठाना चाहते हैं। वे समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता हैं और पार्टी को एकजुट रखने के लिए काम करते रहेंगे। 

Todays Beets: