Wednesday, August 5, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

आखिर उज्जैन में कौन है विकास दुबे के मददगार , 50 पुलिस टीमों के बावजूद फरीदाबाद से कैसे पहुंचा उज्जैन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिर उज्जैन में कौन है विकास दुबे के मददगार , 50 पुलिस टीमों के बावजूद फरीदाबाद से कैसे पहुंचा उज्जैन

लखनऊ । यूपी पुलिस कानपुर शूटआउट कांड को अंजाम देने वाले हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को सुबे के साथ दिल्ली एनसीआर , मध्य प्रदेश और नेपाल बॉर्डर से लगते इलाकों में खोजा जा रहा था । लेकिन वह यूपी से दिल्ली एनसीआर और वहां से मध्य प्रदेश बिना किसी परेशानी के आ जा रहा था । ऐसे में पुलिस की उन 50 से ज्यादा टीमों पर सवाल उठता है , जो उसके करीबियों को दबोचने के बावजूद भी उसे गिरफ्तार नहीं कर पाईं। बहरहाल , विकास दुबे ने उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के बाद मीडिया को बुलाकर अपनी उपस्थिति के बारे में बताया , जहां पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है । अब जांच के बाद मध्य प्रदेश पुलिस इस हिस्ट्रीशीटर को यूपी पुलिस के हवाले करेगी । वहीं मध्य प्रदेश पुलिस अब इस बात की पड़ताल में जुट गई है, कि आखिर प्रदेश में उनके मददगार कौन हैं । 

आपको बता दें कि विकास दुबे कानपुर की घटना के बाद भाग गया था, जिसके बाद उसकी आखिरी लोकेशन यूपी की औरेया सामने आई थी । इसके बाद पुलिस उसे मध्य प्रदेश और नेपाल सीमा से लगे बॉर्डर पर तलाशने लगी । हालांकि यूपी पुलिस की 50 से ज्यादा टीमें लगातार दबिश दे रही थी और कई बदमाशों को गिरफ्तार करने के साथ ही विकास दुबे के कई करीबियों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार भी गिराया था ।

इसके बाद पुलिस को पता चला कि विकास दुबे ने 2-3 दिन फरीदाबाद में बिताए हैं , जिसका एक वीडियो सामने आने पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए फरीदाबाद से उसके तीन साथियों को दबोचा । इन बदमाशों के पास से कानपुर शूटआउट के दौरान पुलिस से लूटे हथियार बरामद किए गए । 

हालांकि पुलिस वहां विकास दुबे को गिरफ्तार करने में असफल साबित हुई । इसके बाद खबर आई कि वह दिल्ली में सरेंडर कर सकता है , जिसके लिए उसके कुछ करीबी दिल्ली में बड़े वकीलों से संपर्क साध रहे हैं । हालांकि पुलिस दिल्ली में उलझी रही और विकास दुबे पुलिस को गच्चा देकर मध्य प्रदेश भाग गया । 


हालांकि विकास दुबे के पहले उसके नोएडा और फिर राजस्थान जाने की बात की जा रही थी । ऐसे में पुलिस ने NCR में लगातार छापेमारी की थी । इस सबके बाद आज अचानक विकास दुबे ने उज्जैन में सरेंडर करने की कोशिश की । 

सूत्रों की मानें तो फरीदाबाद से मध्य प्रदेश तक वो आसानी से एक गाड़ी में पहुंचा, जो पूरी तरह सेफ थी । ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि इतनी बंदिशों के बाद भी विकास दुबे आखिर कैसे इतना लंबा सफर कर पाया । 

इससे इतर , मध्य प्रदेश पुलिस अब उन लोगों की तलाश में जुट गई हैं , जो राज्य में उसके मददगार रहे हैं । 

ऐसी भी खबरें हैं नकि विकास दुबे  आज सुबह ही महाकालेश्वर मंदिर पहुंचा और सुबह 9 बजकर 55 मिनट पर विकास दुबे ने मंदिर के सामने अपना नाम चिल्लाया । विकास ने सरेंडर करने की सूचना स्थानीय मीडिया को दी थी ।  इतना ही नहीं बताया जा रहा कि महाकाल मंदिर के नजदीक विकास दुबे खुलेआम घूमता रहा और फोटो भी खिंचवाई । 

Todays Beets: