Monday, August 19, 2019

Breaking News

   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||   उमर अब्दुल्ला ने पीएम मोदी से की मांग, इस साल के अंत तक कश्मीर में हों चुनाव     ||   मोटर वाहन बिल: अब और महंगा पड़ेगा ट्रैफिक रूल्स का उल्लंघन, बढ़ाया गया जुर्माना     ||   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||

व्हाट्सएप पर ‘कुछ भी’ मैसेज करने की आदत वाले सावधान हो जाएं, पुलिस को दी जाएगी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
व्हाट्सएप पर ‘कुछ भी’ मैसेज करने की आदत वाले सावधान हो जाएं, पुलिस को दी जाएगी जानकारी

नई दिल्ली। अगर आप भी व्हाट्सएप पर चैट करने के आदी हैं तो संभल जाएं। व्हाट्सएप और टेलिग्राम चैट कंपनी अपने यूजर्स के चैट की जानकारी के लिए एंड टू एंड इन्स्क्रिप्शन का उपयोग करती है लेकिन अब वह इसकी जानकारी पुलिस को देने वाली है। हालांकि फिलहाल आपको घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह मामला आॅस्ट्रेलिया में होने वाला है। आपको बता दें कि भारत में भी व्हाट्सएप के जरिए फैलाए गए कई मैसेज की वजह से दंगे और हत्याएं हुईं। सरकार ने व्हाट्सएप से इसकी जानकारी मांगी थी लेकिन उसने अभी इससे मना कर दिया है। 

गौर करने वाली बात है कि ऑस्ट्रेलिया में भी अभी यह नियम लागू नहीं हुआ है। एक ऐसा प्रस्ताव दिया गया है जो कि अभी प्रोसेस में है। यदि इस प्रस्ताव पर सहमति बनती है तो सरकार सोशल मीडिया कंपनियों पर मैसेज एक्सेस करने एंड टू एंड इनक्रिप्शन हटाने का दबाव बना सकती है। वहीं कई लोगों ने इस बिल का आलोचना की है और कहा है कि यह लोगों की निजता पर सीधा हमला है।


ये भी पढ़ें - JIO उपभोक्ता हैं तो आपके पास है इतराने का मौका , एयरटेल को दी जोरदार पटखनी

यहां गौर करने वाली बात है कि भारत के कानून मंत्रालय ने भी सोशल मीडिया के जरिए फैलाई गई अफवाह के बाद कई जगहों पर दंगे भड़के और माॅब लिंचिंग की घटनाएं हुईं। इसके बाद मंत्रालय ने व्हाट्सएप से इसकी जानकारी मांगी थी लेकिन कंपनी से ऐसा करने से मना कर दिया था लेकिन भविष्य में ऐसा हो सकता है कि ऑस्ट्रेलियाई पुलिस जैसा ही भारतीय पुलिस को भी व्हाट्सएप मैसेज पढ़ने की इजाजत मिल जाए।

Todays Beets: