Saturday, July 20, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

एक होंगे अइडिया और वोडाफोन, देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक  होंगे अइडिया और वोडाफोन,  देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेंगे

नई दिल्ली।  नई कंपनी रिलायंस जियो के आने के बाद टेलीकॉम बाजार आकर्षक पैकेज देकर ग्राहकों को तोड़ने-जोड़ने की जबरदस्त प्रतिस्पर्धा के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में आइडिया सेल्यूलर और वोडाफोन इंडिया एक दूसरे से मिलने जा रहे हैं। टेलिकॉम इंडस्ट्री मंगलवार को इस बड़े विलय को मंजूरी देने जा रही है। DOT दोनों कंपनियों के प्रमुख को सर्टिफिकेट दे सकता है। दोनों से मिलने वाली कंपनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी होगी। ग्रहकों की सख्या के हिसाब से भी यह देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी होगी।

ये भी पढ़े-बिहार बोर्ड में फिर गड़बड़झला, गायब हुईं 42 हजार कॉपियां, रिजल्ट से पहले वेरिफिकेशन के लिए बुलाए टॉपर

दोनों कंपनियों के मिलने से नई कंपनी की संयुक्त कमाई 23 अरब डॉलर होगी जिसका 35 फीसदी मार्केट पर कब्जा होगा। नई कंपनी के पास करीब 43 करोड़ ग्राहक होंगे। विलय के बाद इस बढ़ी हुई ताकत से दोनों कंपनियों को बाजार प्रतिस्पर्धा से निपटने में काफी मदद मिलने की उम्मीद है।इस मिलाप के बाद वोडाफोन के पास  नई कंपनी में 45.1 फीसदी हिस्सेदारी होगी। आदित्य बिड़ला ग्रुप के पास 26 फीसदी और आइडिया के शेयरधारकों के पास 28.9 फीसदी हिस्सेदारी होगी। विलय में जा रही इन दोनों टेलीकॉम कंपनियों पर इस समय कर्ज का संयुक्त बोझ 1.15 लाख करोड़ रुपए के लगभग बताया जा रहा है। 


ये भी पढ़े-ठाकरे का पीएम मोदी पर हमला, बोले- विदेश घूमने वाले पीएम को पूरे देश में उड़ रही धूल नहीं दिखती

बता दें कि कुमार मंगलम बिड़ला नई कंपनी के गैर कार्यकारी चेयरमैन होंगे और वोडाफोन इंडिया के मौजूदा सीओओ बालेश शर्मा को कंपनी का सीईओ बनाया गया है. आइडिया के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर अक्षय मुंद्रा नई कंपनी में भी CFO के तौर पर नियुक्त होंगे।

कंपनी का नाम  बदलने पर आइडिया और वोडाफोन के यूजर्स नई कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के ग्राहक बन जाएंगे. नई कंपनी के ऑफर्स और नए प्लान का फायदा उन्हें मिलेगा।

 

Todays Beets: