Thursday, April 2, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

एक होंगे अइडिया और वोडाफोन, देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक  होंगे अइडिया और वोडाफोन,  देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेंगे

नई दिल्ली।  नई कंपनी रिलायंस जियो के आने के बाद टेलीकॉम बाजार आकर्षक पैकेज देकर ग्राहकों को तोड़ने-जोड़ने की जबरदस्त प्रतिस्पर्धा के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में आइडिया सेल्यूलर और वोडाफोन इंडिया एक दूसरे से मिलने जा रहे हैं। टेलिकॉम इंडस्ट्री मंगलवार को इस बड़े विलय को मंजूरी देने जा रही है। DOT दोनों कंपनियों के प्रमुख को सर्टिफिकेट दे सकता है। दोनों से मिलने वाली कंपनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी होगी। ग्रहकों की सख्या के हिसाब से भी यह देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी होगी।

ये भी पढ़े-बिहार बोर्ड में फिर गड़बड़झला, गायब हुईं 42 हजार कॉपियां, रिजल्ट से पहले वेरिफिकेशन के लिए बुलाए टॉपर

दोनों कंपनियों के मिलने से नई कंपनी की संयुक्त कमाई 23 अरब डॉलर होगी जिसका 35 फीसदी मार्केट पर कब्जा होगा। नई कंपनी के पास करीब 43 करोड़ ग्राहक होंगे। विलय के बाद इस बढ़ी हुई ताकत से दोनों कंपनियों को बाजार प्रतिस्पर्धा से निपटने में काफी मदद मिलने की उम्मीद है।इस मिलाप के बाद वोडाफोन के पास  नई कंपनी में 45.1 फीसदी हिस्सेदारी होगी। आदित्य बिड़ला ग्रुप के पास 26 फीसदी और आइडिया के शेयरधारकों के पास 28.9 फीसदी हिस्सेदारी होगी। विलय में जा रही इन दोनों टेलीकॉम कंपनियों पर इस समय कर्ज का संयुक्त बोझ 1.15 लाख करोड़ रुपए के लगभग बताया जा रहा है। 


ये भी पढ़े-ठाकरे का पीएम मोदी पर हमला, बोले- विदेश घूमने वाले पीएम को पूरे देश में उड़ रही धूल नहीं दिखती

बता दें कि कुमार मंगलम बिड़ला नई कंपनी के गैर कार्यकारी चेयरमैन होंगे और वोडाफोन इंडिया के मौजूदा सीओओ बालेश शर्मा को कंपनी का सीईओ बनाया गया है. आइडिया के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर अक्षय मुंद्रा नई कंपनी में भी CFO के तौर पर नियुक्त होंगे।

कंपनी का नाम  बदलने पर आइडिया और वोडाफोन के यूजर्स नई कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के ग्राहक बन जाएंगे. नई कंपनी के ऑफर्स और नए प्लान का फायदा उन्हें मिलेगा।

 

Todays Beets: