Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

उत्तराखंड में स्कूल जाने वाले नौनिहाल खतरे में , 60 फीसदी स्कूल भवन भूकंप झेलने लायक नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में स्कूल जाने वाले नौनिहाल खतरे में , 60 फीसदी स्कूल भवन भूकंप झेलने लायक नहीं

देहरादून । उत्तराखंड में स्कूल जाने वाले नौनिहालों पर खतरे की तलवार लटक रही है । हाल में आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से करवाए गए एक सर्वे में खुलासा हुआ है कि राज्य के 60 फीसदी स्कूल भवन 7 तीव्रता से अधिक का भूकंप झेलने लायक नहीं हैं। इन स्कूलों के निर्माण में न तो मानकों का पालन किया गया है न ही बच्चों को भूकंप से बचने के बारे में कोई जानकारी है । राज्य के अधिकाश स्कूल मात्र चिनाई के आधार पर तैयार है, जो नौनीहालों के लिए खतरा बने हुए हैं, हालांकि RCC तकनीक से बने स्कूलों की स्थिति कुछ बेहतर है । हालांकि इस सर्वे को अब शिक्षा विभाग को सौंप दिया गया है।

कांग्रेस ने NH 74 घोटाले को लेकर सीएम त्रिवेंद्र रावत पर हल्ला बोला , कहा- CBI जांच कराई नहीं कोड़ियों के दाम खरीदी बेशकीमती जमीन

असल में उत्तराखंड डिजास्टर रिकवरी प्रोजेक्ट के तहत हाल में स्कूलों के भूकंप को झेलने की स्थिति को लेकर सर्वे किया गया था । इसमें खुलासा हुआ है कि स्कूलों के निर्माण में मानकों का पालन नहीं किया गया, जिससे स्कूलों की स्थिति खतरनाक बनी हुई है। सर्वे से सामने आए आंकड़ों से साफ होता है कि अगर प्रदेश में बड़ा भूकंप आया तो इन स्कूलों को भारी नुकसान होगा । इतना ही नहीं स्कूल चलने के दौरान अगर ऐसा कोई भूकंप आया तो यह स्थिति बहुत भयावह होगी ।

उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती और उनके प्रमोशन के लिए बना टाइम टेबल

बता दें कि सर्वे में राज्य के कुल 12 हजार से अधिक चिनाई वाले स्कूल भवन, जबकि तीन हजार के करीब आरसीसी स्कूल भवन शामिल किए गए हैं। बहरहाल, इस सर्वे की रिपोर्ट को शिक्षा विभाग को सौंप दिया गया है । जिसमें कहा गया है कि इन स्कूलों की स्थिति सुधारने पर तकरीबन 2 खरब 95 अरब रुपये की जरूरत होगी।


उत्तराखंड में नए शैक्षणिक सत्र से अब केवल 100 छात्र ही कर पाएंगे कम फीस में एमबीबीएस

इस सर्वे रिपोर्ट बनाने वाली टीम के प्रभारी और आपदा प्रबंधन विशेषज्ञ डॉ. गिरीश चंद्र जोशी का इस पर कहना है कि उत्तराखंड में स्कूल भवन बनाने के लिए किसी भी विशेषज्ञ की सलाह नहीं ली गई है । कई जगह जहां स्कूल की छत को काफी मोटा बना दिया गया है , वहीं कई जगह भवन में डाले गए बीम और कॉलम मानकों के अनुरूप नहीं हैं । ऐसे में भूकंप आने की स्थिति में ये भरभराकर गिर सकते हैं। स्कूलों का निर्माण ग्राम समिति या प्रधानों के द्वारा कराया गया जिससे गुणवत्ता से समझौता हुआ।

 

 

Todays Beets: