Friday, September 20, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

सीएम बोले - पर्यावरण संरक्षण के लिए वेस्ट को बेस्ट में बदलें , सीएम आवास पर घरेलू कूड़े से जैविक खाद बनाने की विधि की प्रस्तुति

अंग्वाल संवाददाता
सीएम बोले - पर्यावरण संरक्षण के लिए वेस्ट को बेस्ट में बदलें , सीएम आवास पर घरेलू कूड़े से जैविक खाद बनाने की विधि की प्रस्तुति

देहरादून । राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को अपने आवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि घर के कूड़े कचरे को कम्पोस्ट में बदलकर अच्छी खाद तैयार किया जाएगा । यह एक आसान विधि है। हर व्यक्ति अपने घरों में इस विधि को अपना सकता है। इस विधि से वेस्ट को बेस्ट में बदलकर हम स्वच्छता अभियान में भी बड़ा योगदान दे सकते हैं। यह विधि कचरे से होने वाले वायु व जल प्रदूषण को रोकने में भी कारगर साबित होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी सरकारी कॉलोनियों में जैविक व अजैविक कूड़े का पृथ्थकीकरण करते हुए जैविक कूडे़ की विकेन्द्रित कम्पोस्टिंग सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री आवास में घरेलू कूड़े से जैविक खाद बनाने की विधि का प्रस्तुतीकरण दिया गया। 

बता दें कि सिंचाई विभाग व वेस्ट वॉरियर टीम ने सोमवार को सीएम आवास पर घरेलू कूडे से जैविक खाद बनाने की विधि के बारे में जानकारी दी । इस विधि में गीले व सूखे कूड़े को अलग करना होगा। खाद बनाने के लिए पहले सूखे कूड़े को एकत्र कर उसके ऊपर कॉकपिट की लेयर बनाई जाती है। इसके उपरान्त उसके ऊपर गीला कूड़ा डाला जाता है तथा कॉकपिट की लेयर बनाई जाती है। यह खाद दो से तीन माह में तैयार हो जाती है। 


इस अवसर पर सचिव डॉ. भूपेन्द्र कौर औलख, शैलेष बगोली, अधिशासी अभियंता सिंचाई आर.डी पन्त व संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।   

Todays Beets: