Wednesday, April 21, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

उत्तराखंड - संस्कृत को आम बोलचाल की भाषा बनाने की योजना , हर जिले में बनाएगी ''संस्कृत ग्राम''

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड - संस्कृत को आम बोलचाल की भाषा बनाने की योजना , हर जिले में बनाएगी

देहरादून  । उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार अब देवभूमि में संस्कृत को आम बोलचाल की भाषा के रूप में बढ़ावा देने के लिए जुट गई है । इस सबके लिए सरकार ने प्रदेश में 'संस्कृत ग्राम' बनाने का निर्णय लिया है ।  संस्कृत अकादमी उत्तराखंड की बैठक में सीएम रावत ने कहा कि संस्कृति सभी भाषाओं की जननी मानी जाती है । इसे बढ़ावा देना इस समय बहुत जरूरी हो गया है , ताकि हमारी प्राचीन संस्कृति के संरक्षण के साथ ही संस्कृत भाषा के प्रति युवाओं का रूझान बढ़ाया जा सके । 

राज्य सरकार की ओर से इस मुद्दे को लेकर जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार , सीएम रावत ने इस मुद्दे पर कहा कि पहले देवभूमि के हर एक जनपद और उसके बाद ब्लॉक स्तर पर संस्कृत ग्राम बनाए जाएंगे । इसके लिए जिलों में एक ऐसे गांव की खोज की जाएगी , जहां एक संस्कृत विद्यालय हो । रावत ने कहा कि युवाओं को संस्कृत की अच्छी जानकारी देने और समाज तक इसका व्यापक प्रभाव फैलाने के लिए संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के साथ ही उसके शोध कार्य पर भी विशेष ध्यान दिया जाए। 


सरकारी बयान के अनुसार , संस्कृत भाषा, वेद, पुराणों एवं लिपियों पर शोध कार्य पर अधिक ध्यान देने की भी जरूरत है । सीएम ने कहा कि इसके लिए बजट का सही प्रावधान हो और सभी कार्य परिणाम आधारित हों । संस्कृत के क्षेत्र में अच्छा कार्य करने वालों और पाण्डुलिपियों के संरक्षण के लिए बजट का प्रावधान करने, डिजिटल लाइब्रेरी बनाने का भी बैठक में निर्णय लिया गया. बैठक में संस्कृत अकादमी का नाम ‘उत्तरांचल संस्कृत संस्थानम, हरिद्वार, उत्तराखंड’ करने का भी निर्णय लिया गया । 

हालांकि सरकार के इस फैसले पर कुछ सवाल भी उठने लगे हैं , जिसमें कहा जा रहा है कि सरकार अपनी गढ़वाली और कुमाउनी बोली के संरक्षण के लिए तो काम करती नजर नहीं आ रही है , लेकिन नई योजना बनाकर अब संस्कृत को आम बोलचाल की भाषा बनाने की रणनीति बनाई जा रही है ।  

Todays Beets: