Sunday, February 5, 2023

Breaking News

   Supreme Court: कलेजियम की सिफारिशों को रोके रखना लोकतंत्र के लिए घातक: जस्टिस नरीमन     ||   Ghaziabad: NGT के फैसले पर नगर निगम को SC की फटकार, 1 करोड़ जमा कराने की शर्त पर वूसली कार्रवाई से राहत     ||   दिल्लीः फ्लाइट में स्पाइसजेट की क्रू के साथ अभद्रता के मामले में एक्शन, आरोपी गिरफ्तार     ||   मोरबी ब्रिज हादसा: ओरेवा ग्रुप के मालिक जयसुख पटेल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी     ||   भारत जोड़ो यात्राः राहुल गांधी बोले- हम चाहते हैं कि बहाल हो जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा     ||   MP में नहीं माने बजरंग दल और हिंदू जागरण मंच, 'पठान' की रिलीज के विरोध का किया ऐलान     ||   समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्या पर लखनऊ में FIR     ||   बजरंग पुनिया बोले - Oversight Committee बनाने से पहले हम से कोई परामर्श नहीं किया गया     ||   यमुना एक्सप्रेस-वे पर कोहरे की वजह से 15 दिसंबर से स्पीड लिमिट कम कर दी जाएगी     ||   भारत की यात्रा करने वाले ब्रिटेन के नागरिकों के लिए ई-वीजा सुविधा फिर से शुरू     ||

उत्तराखंड में आफत : जोशीमठ की तरह कर्णप्रयाग के भी 40 मकानों में आई हैं दरारें , धंस रही है जमीन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में आफत : जोशीमठ की तरह कर्णप्रयाग के भी 40 मकानों में आई हैं दरारें , धंस रही है जमीन

न्यूज डेस्क । उत्तराखंड में एक बार फिर से प्राकृतिक आपदा अपने पांव पसार रही है । जोशीमठ में भूस्खलन और करीब 723 घरों में आई दरारों के बाद पूरे राज्य में दहशत व्याप्त है । इस बीच एक नहीं डराने वाली खबर जोशीमठ से 80 किलोमीटर दूर बसे कर्णप्रयाग से आ रही है , जहां की स्थिति भी डराने वाली है । असल में कर्णप्रयाग के बहुगुणा नगर में भी करीब 40 मकानों में दरारें आ गई हैं । इन घरों के आसपास न केवल दीवारें दरक रही हैं , बल्कि जमीन भी धंस गई है । इसके चलते करीब 200 लोग भी लगातार असहज महसूस कर रहे हैं । 

कर्णप्रयास में ऊंचाई वाले मकानों पर संकट

जोशीमठ के बाद कर्णप्रयाग के ऊंचाई वाले मकानों पर भी संकट छाया हुआ है । बहुगुणा नगर के जिन घरों में दरारें आई हैं , वहां रहने वाले लोगों का कहना है कि हमें इस बात का अब बता है कि जल्द हमारा घर भी ढह जाएगा । लेकिन, हम लाचार हैं , हम कहीं नहीं जा सकते । हमारे पास अपने घरों को छोड़कर जाने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है , लेकिन जाएं तो जाएं कहा । 

प्रशासन पर उदासीनता का आरोप

गांव के कुछ लोगों का कहना है कि जोशीमठ की घटना के बाद अब आशा है कि प्रशासन यहां की भी सुध लेगा , लेकिन अभी तक प्रशासन ने हमारी कोई सुध नहीं ली है । प्रशासन ने अब तक हमारे खतरनाक स्थिति में पहुंच चुके मकानों को चिन्हित तक नहीं किया है । प्रशासन ने बारिश में इन घरों में न रहने की बात कही थी , लेकिन बारिश के बाद लोग फिर इन घरों में रहने आ रहे हैं । उनके पास कोई दूसरा चारा नहीं है । 


लोगों का आरोप

स्थानीय लोगों का आरोप है कि नीचे कुछ सरकारी इमारतें भी बनी हैं । उनमें भी दरारें आ गई हैं ।  वहां के लोगों का कहना है चारधाम की जो सड़क बनी है, उसकी वजह से यह सब हुआ है । इन लोगों का कहना है कि ऊपर के मकान अगर गिरे तो नीचे रहने वाले लोगों और भवनों को नुकसान होगा । लोगों का कहना है कि मंडी समिति की नई बिल्डिंग बनने के बाद से घरों में ये दरारें आने शुरू हुई हैं । दरार आने के बाद लोगों ने घरों में प्लास्टर करवाया, फिर भी उससे कुछ नहीं हुआ । साल 2021 से घरों में दरारें दिख रही हैं. प्लास्टर करान के बावजूद सबकुछ वैसा ही हो गया है ।  

नहीं है ड्रेनेज की कोई व्यवस्था

स्थानीय लोगों का आरोप है कि प्रशासन की तरफ से इलाके में ड्रेनेज के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है । इस शहर में कोई भी ड्रेनेज की व्यवस्था नहीं है । एक घर का पानी दूसरे घर में रिसता है । कुछ लोगों ने अपना घर छोड़ दिया है । स्थानीय लोगों का कहना है कि अब हमने भी एक संघर्ष समिति बनाई है , क्योंकिन प्रशासन बिना धरना के नहीं सुनता । जोशीमठ के लोगों की तरह हम लोग भी आंदोलन करेंगे । लोगों का कहना है कि शिकायत करने पर पटवारी आता है और नाप लेकर चला जाता है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होती ।  

Todays Beets: