Wednesday, October 28, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

अगर उत्तराखंड जा रहे हैं जो जरा ध्यान दें , कोविड टेस्ट को लेकर सीएम के आदेशों की अनदेखी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अगर उत्तराखंड जा रहे हैं जो जरा ध्यान दें , कोविड टेस्ट को लेकर सीएम के आदेशों की अनदेखी

देहरादून । अगर कोरोना काल में आप उत्तराखंड आने की सोच रहे हैं तो जरा इस खबर को ध्यान से पढ़ें । असल में पिछले दिनों सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ऐलान किया कि जो लोग कुछ दिनों के लिए उत्तराखंड आना चाहते हैं उन्हें अपने कोविड टेस्ट करवाने की जरूरत नहीं होगी , लेकिन उनके ही राज्य के अफसर उनकी बात मानने को तैयार नहीं हैं । राज्य की राजधानी देहरादून समेत कई जगह पर प्रशासनिक अधिकारी बाहर से आने वाले लोगों की कोरोना रिपोर्ट मांग रहे हैं , इसके बिना उन्हें शहर में प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा । 

बता दें कि वायरस महामारी के बीच उत्तराखंड में आने की सोच रहे हैं तो आपको पहले यहां की स्थिति के बारे में अच्छी तरह से जान लेना ही बेहतर होगा । असल में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गत दिनों अपने आदेश में कहा था कि अगर चार दिन के लिए कोई पर्यटक उत्तराखंड आ रहा है तो उसे कोरोना वायरस टेस्ट कराने की कोई जरूरत नहीं है । 

लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री होने के बावजूद उनके आदेशों की अनदेखी राज्य की राजधानी देहरादून में सबसे ज्यादा नजर आई । बता दें कि देहरादून में अगर पर्यटक आ रहे हैं तो प्रशाशन उनसे कोरोना रिपोर्ट मांग रहा है  । अगर किसी शख्स के पास कोरोना रिपोर्ट नहीं है तो उन्हें क्वारंटाइन किया जा रहा है या बॉर्डर से वापस भेजा जा रहा है ।  इतना ही नहीं अगर आप जैसे तैसे मशहूर पर्यटक स्थल मसूरी या धनोल्टी चले गए हैं तो बिना कोरोना रिपोर्ट के होटल में रूम नहीं मिल रहे हैं ।  ऐसे में एक बात साफ है कि स्थानीय प्रशासन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के आदेश का पालन नहीं कर रहा है । 


लंबे समय से अपने घरों में कैद लोग कोरोना काल के बीच में ही अब थोड़ी राहत पाने के लिए पहाड़ों की ओर घूमने जा रहे हैं । हालांकि इन लोगों को उत्तराखंड के कई इलाकों में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । मंसूरी घूमने आए एक पर्यटक ने कहा कि पिछले दिनों सीएम ने चार दिनों के लिए आने वालों के लिए कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट जरूरी नहीं बताया था , अब हम यहां कुछ दिन घूमने आए थे , लेकिन यहां बिना कोरोना टेस्ट रिपोर्ट के होटल नहीं मिल रहे । 

इतना ही नहीं देहरादून से वापस लौट रहे एक परिवार ने कहा कि सीएम रावत की अपने ही राज्य में उपेक्षा की जा रही है , उनके आदेशों को नहीं माना जा रहा है । यह स्थिति ठीक नहीं , कोरोना टेस्ट रिपोर्ट नहीं होने पर अब हम वापस जा रहे हैं , लेकिन सरकार को चाहिए कि वह इस समस्या का जल्द समाधान करें । 

 

Todays Beets: