Sunday, February 5, 2023

Breaking News

   Supreme Court: कलेजियम की सिफारिशों को रोके रखना लोकतंत्र के लिए घातक: जस्टिस नरीमन     ||   Ghaziabad: NGT के फैसले पर नगर निगम को SC की फटकार, 1 करोड़ जमा कराने की शर्त पर वूसली कार्रवाई से राहत     ||   दिल्लीः फ्लाइट में स्पाइसजेट की क्रू के साथ अभद्रता के मामले में एक्शन, आरोपी गिरफ्तार     ||   मोरबी ब्रिज हादसा: ओरेवा ग्रुप के मालिक जयसुख पटेल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी     ||   भारत जोड़ो यात्राः राहुल गांधी बोले- हम चाहते हैं कि बहाल हो जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा     ||   MP में नहीं माने बजरंग दल और हिंदू जागरण मंच, 'पठान' की रिलीज के विरोध का किया ऐलान     ||   समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्या पर लखनऊ में FIR     ||   बजरंग पुनिया बोले - Oversight Committee बनाने से पहले हम से कोई परामर्श नहीं किया गया     ||   यमुना एक्सप्रेस-वे पर कोहरे की वजह से 15 दिसंबर से स्पीड लिमिट कम कर दी जाएगी     ||   भारत की यात्रा करने वाले ब्रिटेन के नागरिकों के लिए ई-वीजा सुविधा फिर से शुरू     ||

जोशीमठ LIVE - बढ़ती दरारों से पल-पल बढ़ रहा खतरा , बारिश बढ़ाएगी मुसीबत , पीड़ितों को मुआवजे का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जोशीमठ LIVE - बढ़ती दरारों से पल-पल बढ़ रहा खतरा , बारिश बढ़ाएगी मुसीबत , पीड़ितों को मुआवजे का ऐलान

न्यूज डेस्क । उत्तराखंड के जोशीमठ में भूस्खलन के साथ साथ घरों में दरारें आने की घटनाएं धीरे धीरे बढ़ रही हैं । पल पल बिगड़ते हालात के बीच बचाव व राहत कार्य जारी है । प्रशासन खतरनाक स्थिति में पहुंच चुके भवनों - इमारतों को ढहाने की रणनीति बना चुका है , लेकिन इस सबके बीच मौसम विभाग ने जोशीमठ में आज से अगले तीन दिनों तक बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है , जो संकट को और बढ़ा सकता है । अब तक 723 घरों में दरार आना चिन्हित किया गया है। इस बीच 100 से ज्यादा परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है । 

जमीन धंसने की घटनाएं बढ़ीं

विदित हो कि जोशीमठ में पिछले दिनों से लगातार जमीन धंसने की घटनाओं में इजाफा हो रहा है । जोशीमठ में हालात हर पल बिगड़ रहे हैं । सैकड़ों लोगों को अभी तक खतरनाक इमारतों से रेस्क्यू किया जा चुका है । अभी तक 700 से ज्यादा घरों में दरारें देखी गई हैं । प्रशासन ने अब तक 86 घरों को असुरक्षित चिह्नित किया गया है, जिन्हें ढहाने की बात कही जा रही है । करीब 100 से ज्यादा परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा चुका है। 

पल पल बढ़ रहा है खतरा

जहां प्रशासन जोशीमठ के कुछ इलाकों में बचाव व राहत कार्य तेजी से कर रहा है , वहीं अब भूस्खलन से गांधीनगर और पालिका मारवाड़ी में बने मकानों में दरारें नजर आने लगी हैं ।  गांधीनगर में 134 और पालिका मारवाड़ी में 35 घरों में दरारें आ गई हैं । वहीं, लोअर बाजार में 34, सिंहधार में 88, मनोहर बाग में 112, अपर बाजार में 40, सुनील गांव में 64, पारासरी में 55 और रविग्राम में 161 घर भी असुरक्षित जोन में आ गए हैं । 

बारिश बढ़ाएगी आफत


इस सबके बीच मौसम विभाग ने आज से अगले तीन दिनों तक बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है । हालांकि प्रशासन असुरक्षित घोषित किए गए भवनों को ढहाने के काम में जुट रही है । अगर बारिश शुरू हुई तो स्थानीय लोगों के लिए आफत बढ़ जाएगी । 

पीड़ित परिजनों को मिलेगा मुआवजा

इससे इतर , एक अच्छी खबर यह आई है कि प्रशासन ने पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने की बात कही है । उत्तराखंड के मुख्य सचिव एसएस संधू ने एनसीएमसी को मौजूदा स्थिति से अवगत कराया और बताया कि गंभीर रूप से प्रभावित घरों के निवासियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है । बयान में कहा गया है कि प्रभावित परिवारों को समायोजित करने के लिए जोशीमठ और पीपलकोटी में राहत आश्रयों की पहचान की गई है और राज्य सरकार उचित मुआवजा और राहत उपाय प्रदान कर रही है । 

केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार सतर्क

मौके की नजाकत को समझते हुए केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार ने अपनी टीमों को जोठीमठ में भेज दिया है । केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने समिति को बताया कि स्थिति का आकलन करने के लिए सीमा प्रबंधन सचिव के नेतृत्व में गृह मंत्रालय के अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय टीम वर्तमान में जोशीमठ में है ।  केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने शहर के प्रभावित इलाकों का दौरा किया और लोगों से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि लोगों की जान बचाने के लिए जनहित में विध्वंस के उपाय किए जा रहे हैं । 

Todays Beets: