Monday, July 22, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

देवभूमि के वृक्ष मानव विश्वेश्वर सकलानी का 98 वर्ष में निधन

अंग्वाल संवाददाता
देवभूमि के वृक्ष मानव विश्वेश्वर सकलानी का 98 वर्ष में निधन

टिहरी । उत्तराखंड में वृक्ष मानव के नाम से मशहूर 98 वर्षीय विश्वेश्वर दत्त सकलानी का शुक्रवार सुबह अपने पैतृक गांव में निधन हो गया। वह टिहरी जिले की सकलाना पट्टी के पुजारा गांव के निवासी थे। उनके पुत्र ने बताया कि गुरुवार रात वह खाना खाने के बाद सो गए थे लेकिन शुक्रवार सुबह जब उन्हें चाय देने के लिए उठाया तो वह स्वर्ण सिधार चुके थे। बता दें कि 2 जून 1922 को जन्मे विश्वेश्वर सकलानी को पेड़ लगाने का बहुत शौक था। वर्ष 1956 में जब उनकी पत्नी का निधन हुआ तो उस दौरान उनका इलाका वृक्षविहिन था। ऐसे में


उन्होंने अन्य काम छोड़ पौधरोपण को अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया था। एक अनुमान के अनुसार, उन्होंने करीब 40 लाख पौध लगाई। उन्होंने अपने प्रयासों से करीब एक हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में पौधरोरण कर जंगल तैयार किया। उन्होंने अपने इलाके में बांज , बुरांश और देवदार के पेड़ लगाने शुरू किए थे।

Todays Beets: