Sunday, February 5, 2023

Breaking News

   Supreme Court: कलेजियम की सिफारिशों को रोके रखना लोकतंत्र के लिए घातक: जस्टिस नरीमन     ||   Ghaziabad: NGT के फैसले पर नगर निगम को SC की फटकार, 1 करोड़ जमा कराने की शर्त पर वूसली कार्रवाई से राहत     ||   दिल्लीः फ्लाइट में स्पाइसजेट की क्रू के साथ अभद्रता के मामले में एक्शन, आरोपी गिरफ्तार     ||   मोरबी ब्रिज हादसा: ओरेवा ग्रुप के मालिक जयसुख पटेल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी     ||   भारत जोड़ो यात्राः राहुल गांधी बोले- हम चाहते हैं कि बहाल हो जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा     ||   MP में नहीं माने बजरंग दल और हिंदू जागरण मंच, 'पठान' की रिलीज के विरोध का किया ऐलान     ||   समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्या पर लखनऊ में FIR     ||   बजरंग पुनिया बोले - Oversight Committee बनाने से पहले हम से कोई परामर्श नहीं किया गया     ||   यमुना एक्सप्रेस-वे पर कोहरे की वजह से 15 दिसंबर से स्पीड लिमिट कम कर दी जाएगी     ||   भारत की यात्रा करने वाले ब्रिटेन के नागरिकों के लिए ई-वीजा सुविधा फिर से शुरू     ||

जोशीमठ LIVE - जमीन फटने से आई आफत , 606 घरों में पड़ी दरारें , लोगों का पलायन शुरू , सीएम धामी मुआयना करने पहुंचे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जोशीमठ LIVE - जमीन फटने से आई आफत , 606 घरों में पड़ी दरारें , लोगों का पलायन शुरू , सीएम धामी मुआयना करने पहुंचे

न्यूज डेस्क । उत्तराखंड के जोशीमठ में जमीन फटने और घरों में भयंकर दरारे आने के बाद से प्रदेश के साथ देश में चिंता की नई लहर दौड़ रही है । जोशीमठ के सिंहधार वार्ड में जमीन फटने की घटनाएं धीरे धीरे बढ़ रही है । शुक्रवार शाम तक मिले आंकड़ों के अनुसार , अभी तक करीब 606 घरों में भारी दरारें आई हैं । इतना ही नहीं इलाके की कई सड़कों और अन्य मैदानों पर भारी दरारें नजर आ रहीं है । इस घटनाक्रम को लेकर ब्रह्मलीन शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने बताया कि जोशीमठ में हो रहे भू धंसाव के कारण ज्योर्तिमठ और भगवान बदरीनाथ के शीतकालीन प्रवास स्थल को भारी नुकसान पहुंचा है। शुक्रवार की सायं को सिंहधार में स्थानीय जनता के कुलदेवता का मंदिर भी धराशायी हो गया है। इससे स्थानीय निवासियों में दहशत बढ़ गयी है। इस घटना के बाद वहां से पलायन शुरू हो गया है ।

सीएम ने हवाई सर्वेक्षण के बाद लिया मैदानी जायजा

जोशीमठ में आई आफत का जायजा लेने के लिए सीएम पुष्कर सिंह धामी शनिवार सुबह आपदाग्रस्त क्षेत्र पहुंचे । पहले उन्होंने पूरे इलाके का हवाई मुआयना किया । इसके बाद वह उन गलियों में गए जहां दरारें आई हुई हैं । उन्होंने अफसरों से सबसे पहले पीड़ित परिवारों को हर संभव मदद देने के आदेश अफसरों को दिए । 

लगातार बढ़ रही हैं दरारें

गढ़वाल के कमिश्नर का कहना है कि इलाके में लगातार दरारें बढ़ती जा रही हैं । स्थिति पर प्रशासन के साथ ही विषय विशेषज्ञों की नजर बनी हुई है । इस समय 44 परिवारों को सुरक्षित मकान से निकाला गया है । इतना ही नहीं उन्होंने बताया कि पूरे घटनाक्रम पर नजर रखते हुए इसरो जारी करेगा जोशीमठ की तस्वीरें । 


जमीन फाड़कर पानी निकल रहा है 

नगरपालिका के अफसरों के अनुसार , अभी स्थिति खतरनाक नजर आ रही है । कई जगह जमीन फाड़कर पानी निकल रहा है । कुछ मकान तो भूस्खलन के चलते इस स्थिति में पहुंच गए हैं कि वह कभी भी गिर सकते हैं । हालांकि स्थानीय लोगों ने इस भूस्खलन का कारण इलाके में हो रहे काम को माना है । उनका कहना है कि जोशीमठ में बुलडोजर और कई मशीनें लंबे समय से चल रही हैं उसके कारण ऐसा हुआ । 

हालात के स्पष्ट कारण तलाशे जाएं - डा. विक्रम गुप्ता

इस घटनाक्रम पर वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान, देहरादून के वरिष्ठ विज्ञानी डा. विक्रम गुप्ता का कहना है कि जोशीमठ के हालात पर पहले स्पष्ट कारण तलाश किए जाने चाहिए। तभी यह साफ हो सकता है कि समाधान क्या होना चाहिए। क्योंकि हिमालय के सभी गांव मलबे के ढेर पर ही बसे हैं। अंतर सिर्फ यह है कि कालांतर में मलबे के ढेर ठोस सतह का रूप ले चुके हैं। हिमालयी क्षेत्रों में किसी भी तरह के निर्माण की एक सीमा तय की जानी चाहिए। हिमालय अभी निर्माण की प्रक्रिया से गुजर रहा है और इसमें निरंतर भूगर्भीय हलचल हो रही है। ऐसे में पहाड़ों पर निर्माण को नियंत्रित किया जाना जरूरी है।

लंबे समय से जमीन घसने की शिकायत 

स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि सरकारों की अदूरदर्शिता और अनियोजित विकास कार्यों ने सनातन धर्म के शिखर स्थलों सहित पौराणिक नगरी जोशीमठ (ज्योर्तिमठ) के लाखों नागरिकों के भविष्य को खतरे में डाल दिया है। लोगों का कहना है कि पिछले एक वर्ष से लगातार क्षेत्र में जमीन धंसने की शिकायतें मिल रही थी, लेकिन उन पर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया। नतीजा सबके सामने है।

1970 से भूस्खलन है जारी

वहीं इस घटनाक्रम पर  प्रसिद्ध पर्यावरणविद् पद्मभूषण चंडी प्रसाद भट्ट का कहना है कि धार्मिक और सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण जोशीमठ शहर में स्थिति आज अधिक विकट हो चली है। जोशीमठ में भूधंसाव, भूस्खलन का सिलसिला 1970 के दशक से चल रहा है। स्थिति बिगड़ रही है। जंगलों का कटान हुआ है। विभिन्न निर्माण कार्यों के दौरान पहाड़ कटान के लिए धमाके हुए हैं। कारणों की तह तक जाने के साथ ही दीर्घकालिक कदम उठाने की आवश्यकता है। इसके साथ ही हम सबको भी अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी।

Todays Beets: