Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

चमोली के बाराहोती में एक फिर ‘ड्रैगन’ ने की घुसपैठ, 4 किलोमीटर तक आए अंदर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चमोली के बाराहोती में एक फिर ‘ड्रैगन’ ने की घुसपैठ, 4 किलोमीटर तक आए अंदर

नई दिल्ली/देहरादून। भारत और चीन के बीच भले ही कागजों पर रिश्ते बेहतर होते नजर आ रहे हों लेकिन सीमा पर ऐसा नहीं है। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि चीनी सैनिकों ने बाराहोती इलाके में पिछले महीने की 6, 14 और 15 अगस्त को भारतीय सीमा के 4 किलोमीटर अंदर आ गए थे। बताया जा रहा है कि आईटीबीपी के विरोध के बाद चीनी सैनिक और नागरिक वहां से बाहर गए थे। 

गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच हाल ही में डोकलाम विवाद भी काफी चर्चा में रहा था। वहां भी चीनी सैनिक भारतीय सीमा में घुस आए थे और अपना कब्जा जमा रहे थे। दोनों देशों के नेताओं के बीच कई स्तरों की बातचीत के बाद उस मुद्दे को शांत किया गया। अब उत्तराखंड के चमोली इलाके में स्थित बाराहोती की रिमखिम पोस्ट पर चीन की सेना लगातार घुसपैठ करती रही है। 


ये भी पढ़ें- तेलंगाना में चंद्रशेखर राव के मंसूबे को कांग्रेस ने दिया झटका, बनाया महागठबंधन

यहां बता दें कि आईटीबीपी की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि अगस्त के महीने में चीन से 3 बार भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश की है। यहां तक की स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी वह बाराहोती में 4 किलोमीटर तक अंदर आ गई थी। इंडो तिब्ब्त पुलिस के विरोध के बाद चीनी सेना और नागरिक वापस गए हैं। गौर करने वाली बात है कि दोनों देशों की सरकारें लगातार सीमा पर शांति की बातें कहती रही हैं, हालांकि जमीन पर तस्वीर कुछ और ही नजर आती है।                

Todays Beets: