Monday, July 22, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

निर्वाचन आयोग का राज्यों को आदेश , 3 साल से एक जगह जमा अफसरों का तुरंत तबादला करें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
निर्वाचन आयोग का राज्यों को आदेश , 3 साल से एक जगह जमा अफसरों का तुरंत तबादला करें

देहरादून । राज्य में पिछले 3 सालों से एक ही जिले में तैनात अफसरों पर अब तबादले की तलवार लटक गई है। असल में भारत निर्वाचन आयोग ने राज्य सरकारों को पत्र लिखकर आगामी 20 फरवरी तक तबादला करने के आदेश जारी किए हैं । पत्र में साफ लिखा गया है कि राज्यों में जिन अफसरों ने तैनाती वाली जगह 31 मई 2015 के बाद कोई भी चुनाव कराया हो, उन्हें वहां से हटाया जाएगा। निर्वाचन आयोग ने राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र भेज लोकसभा चुनावों में निष्पक्षता बनाए रखने के निर्देश दिए हैं । निर्वाचन आयोग के इस आदेश पर राज्य के कार्मिक विभाग ने कवायद तेज कर दी है ।  राज्य सरकारों को इस बाबत एक रिपोर्ट आगामी 25 फरवरी तक आयोग को देनी होगी। 

बता दें कि निर्वाचन आयोग के पत्र के बाद से राज्य के कार्मिक विभाग सक्रिय हो गया है। विभागीय सूत्रों के अनुसार , इस समय उत्तराखंड में करीब 30 PCS अधिकारी इस आदेश के अंतर्गत तबादले की जद में आ रहे हैं। हालांकि इस पर राज्य सरकार ने हाल में आईएएस - पीसीएस अफसरों के तबादले किए थे, जिसके बाद अब नए अफसरों के तबादलों से पूरा प्रशासनिक तंत्र बदल जाने की मुद्दा रखा था, लेकिन आयोग ने स्पष्ट कर दिया कि तबदले जिले से बाहर ही होंगे। 


 

Todays Beets: