Wednesday, December 11, 2019

Breaking News

   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||   दिल्ली: राजनाथ सिंह के सामने आया शख्स, पीएम मोदी से मिलाने की मांग की     ||   उत्तराखंड के बद्रीनाथ में भारी हिमपात , तापमान माइनस पर पहुंचा    ||   नेपालः कास्की में कम्युनिस्ट पार्टी के बैठक स्थल के पास पार्किंग में धमाका     ||   राम मंदिर मामले में रिव्यू याचिका दायर करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड     ||   दिल्ली हाईकोर्ट ने मालविंदर सिंह और सुनील गोड़वानी को एक दिन की ED हिरासत में भेजा     ||   बीजेपी ने पार्टी महासचिव अरुण सिंह को यूपी से राज्यसभा उम्मीदवार बनाया     ||   पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 11 दिसंबर तक बढ़ाई गई     ||   INX मीडिया केस: पी चिदंबरम को झटका, दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका     ||   वकील VS पुलिस मामला: HC ने कहा- जांच पूरी होने तक पुलिस पक्ष से नहीं होगी गिरफ्तारी     ||

उत्तराखंड - हल्द्वानी के प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा ने उगाया 'ब्लैक राइस', कई बीमारियों के लिए है रामबाण 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड - हल्द्वानी के प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा ने उगाया

हल्द्वानी । क्या आपने ब्लैक राइस यानी काले धान के बारे में सुना है । अगर नहीं तो चलिए हम बता देते हैं कि औषधीय गुणों से भरपूर इस काले चावल की पिछले कुछ सालों में काफी डिंमांड बढ़ी है , क्योंकि यह चावल दिल के मरीजों के साथ ही शुगर के मरीजों के लिए किसी रामबाण से कम नहीं है । मौजूदा समय में शहरों में रहने वाले लोग अपनी बदली जीवनशैली के चलते आने वाली परेशानियों को ध्यान में रखते हुए ऐसे उत्पादों को हाथों हाथ खऱीदते हैं । तो आपको बता दें कि असम और मणिपुर जैसे राज्यों में पाए जाने वाले इस काले धान को अब उत्तराखंड में भी उगाया जा रहा है । राज्य के प्रगतिशील किसान नरेंद्र सिंह मेहरा ने हल्द्वानी (Haldwani) गौलापार में इस काले धान (Black Paddy) को उगाने में सफलता प्राप्त कर ली है । 

मिली जानकारी के मुताबिक , प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा ने छत्तीसगढ़ से थोड़ा बीज मंगाकर अपने खेतों में काला धान उगाया था । इसके लिए उन्होंने कुछ और व्यवस्था की । उनकी मेहनत और जैविक विधि से की गई खेती का परिणाम यह हुआ कि उन्होंने उत्तराखंड में भी इस काले धान को उगाने में सफलता हासिल कर ली है ।

नरेंद्र मेहरा का कहना है कि अमूमन भारतीय बाजारों में सामान्य रूप से चावलों की कीमत 25 रुपये से लेकर 200 रुपये तक के बीच में है , लेकिन इस ब्लैक राइस करीब 300 रुपये प्रतिकिलो की दर से बिकता है । अगर इसे पूरी तरह जैविक विधि से उगाया जाए तो इसकी कीमत दोगुनी हो जाती है । अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 600 रुपये प्रतिकिलो हो जाती है । उनका कहना है कि अगर थोड़ी मेहनत करके इसे उगाया जाए तो किसानों को अच्छा मुनाफा हो सकता है , क्योंकि यह ब्लैक राइस आसानी से बिकता है । 


इस प्रगतिशील किसान का कहना है कि इस ब्लैक राइस का बीज 1500 से 1800 रुपये प्रति किलो है, लेकिन इसकी मदद से प्रति एकड़ 18 से 20 क्विंटल तक उत्पादन किया जा सकता है । खास बात ये है कि इसके लिए ज्यादा पानी की भी जरूरत नहीं होती । 

इन चालवों की खास बात यह है कि इनमें कार्बोहाईड्रेड की मात्रा कम होने के कारण यह शूगर के रोगियों के लिए भी लाभकारी होता है । हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, हाईकॉलेस्ट्राल, आर्थराइटिस और एलर्जी में भी ब्लैक राइस लाभकारी है ।  

Todays Beets: