Monday, July 22, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

आने वाले 48 घंटे हो सकती है आफत की बारिश, भूस्खलन ने रोकी भक्तों की राह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आने वाले 48 घंटे हो सकती है आफत की बारिश, भूस्खलन ने रोकी भक्तों की राह

देहरादून। उत्तराखंड के लोगों को मौसम का मिजाज अभी और परेशान करने वाला है। मौसम विभाग ने सोमवार और मंगलवार को भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। मौसम विभाग ने चारधाम समेत राज्य के अन्य हिस्सों में भी बारिश की संभावना जताई है। बता दें कि प्रदेश में कई दिनों से लगातार भारी बारिश हो रही है। गंगोत्री, उत्तरकाशी और टिहरी में पहाड़ों से भारी भूस्खलन होने से सैंकड़ों संपर्क सड़कें अभी भी बंद पड़ी हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से जेसीबी मशीनों को लगाकर रास्तों को खोलने का प्रयास किया जा रहा है। 

गौरतलब है कि राज्य के ज्यादातर हिस्सों में पिछले कई दिनों से भारी बारिश का  दौर जारी है। हरिद्वार और ऋषिकेश में गंगा नदी खतरे के निशान के करीब पहुंच गई है। ऐसे में कई घाटों के डूबने की खबरें भी आ रही हैं। टिहरी और उत्तरकाशी में लगातार पहाड़ों से मलबा गिरने से रास्ते बंद हो गए हैं। रास्तों के बंद होने से सैकड़ों की संख्या में कांवडिए भी फंस गए हैं। अब मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इससे लोगों के साथ ही कांवड़ियों की मुश्किलों में भी इजाफा कर दिया है।

ये भी पढ़ें - नैनीताल के ‘दीवान नाथ’ ने देश रक्षा में दिया सर्वोच्च बलिदान, मेघालय में उग्रवादियों से मुठभे...


यहां बता दें कि आज से सावन का महीना शुरू हो गया है और पहला सोमवार होने की वजह से बड़ी संख्या में कांवड़िए राज्य में आ रहे हैं लेकिन पहाड़ों से होने वाले भूस्खलन ने उनकी राह मुश्किलों से भर दी हैं। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने कहा है कि कुमाऊं क्षेत्र के लिए  भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। भारी बारिश की वजह से राज्य की 197 सड़कें बंद हो गई हैं। लोक निर्माण विभाग ने बताया कि सबसे अधिक सड़कें देहरादून, चमोली, टिहरी और पौड़ी जिलों में बंद हैं। विभाग की ओर से इन सभी सड़कों को खोलने का सिलसिला जारी है। 

Todays Beets: