Tuesday, July 16, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

हाईकोर्ट ने सरकारी महिला कर्मियों को दी बड़ी राहत, अब तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मिलेगा मातृत्व अवकाश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने सरकारी महिला कर्मियों को दी बड़ी राहत, अब तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मिलेगा मातृत्व अवकाश

नैनीताल। उत्तराखंड हाईकोर्ट ने सरकार को निर्देश देते हुए कहा है कि महिला सरकारी कर्मचारियों को उनके तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मातृत्व अवकाश दिया जाए। कोर्ट ने तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न देने वाले नियम को असंवैधानिक बताया है। बता दें कि हल्द्वानी की उर्मिला मनीष नाम की महिला ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कहा था कि तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न देने को संवैधानिक भावना के खिलाफ है। 

गौरतलब है कि सरकारी नियमों के अनुसार महिला सरकारी कर्मचारियों के तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश नहीं देने का प्रावधान है लेकिन हाईकोर्ट में दायर याचिका पर सुनवाई करने के बाद कोर्ट पूरी तरह से महिला के पक्ष में आते हुए कहा कि तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न दिया जाने वाला नियम ही असंवैधानिक है। न्यायमूर्ति राजीव शर्मा की एकलपीठ ने कहा कि महिला को उसके तीसरे बच्चे के लिये मातृत्व अवकाश देने से इनकार करना संविधान की भावना के खिलाफ है।

ये भी पढ़ें - राज्य सरकार ने शुरू किया स्टार्ट अप पोर्टल, 7 कंपनियों को दी मान्यता


यहां बता दें कि उत्तराखंड द्वारा अपनाए गए उत्तर प्रदेश मौलिक नियमों की वित्तीय पुस्तिका के मौलिक नियम 153 के दूसरे प्रावधान में किसी महिला सरकारी कर्मचारी को तीसरे बच्चे के लिए मातृत्व अवकाश से इंकार किया गया है। गौर करने वाली बात है कि अदालत ने 30 जुलाई को दिए गए फैसले में कहा था कि महिला को तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश नहीं देने वाले नियम को खत्म कर देना चाहिए क्योंकि यह संविधान के अनुच्छेद 42 और मातृत्व लाभ अधिनियम, 1961 की धारा 27 के खिलाफ है। कोर्ट ने कहा कि मानवीय आधार पर मातृत्व अवकाश दिया जाना चाहिए। 

 

Todays Beets: