Sunday, June 7, 2020

Breaking News

   उत्तराखंड: कोरोना के 46 नए मामले, कुल पॉजिटिव केस हुए 1199     ||   माले: ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत आईएनएस जलश्व से मालदीव में फंसे 700 भारतीय लाए जा रहे वापस     ||   बिहार: ADG लॉ एंड ऑर्डर ने जताई आशंका, प्रवासियों के आने से बढ़ सकता है अपराध     ||   दिल्ली: बीजेपी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने संभाला अपना पदभार     ||   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||

केदारनाथ धाम के कपाट पूर्व निर्धारित 29 अप्रैल को ही खुलेंगे , पहले बदला गया था समय

अंग्वाल संवाददाता

केदारनाथ धाम के कपाट पूर्व निर्धारित 29 अप्रैल को ही खुलेंगे , पहले बदला गया था समय

रुद्रप्रयाग । उत्तराखंड के चार धामों में से एक केदारनाथ से जुड़ी एक अच्छी खबर है । सूचना है कि केदारनाथ धाम के कपाट अब अपने पूर्व निर्धारित तिथि पर ही खुलेंगे । कपाट खुलने को लेकर पंचगद्दी स्थल ऊखीमठ में आयोजित हुई बैठक में सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया । बैठक में हुए फैसले को शासन - प्रशासन के पास भेज दिया गया है ।  इससे पहले सोमवार को बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि और मुहुर्त बदल दिया गया था । पर्यटन और धर्मस्व मंत्री सतपाल महाराज ने केदारनाथ धाम के कपाट भी 14 मई को खुलने का ऐलान कर दिया था हालांकि बाद में तीर्थ-पुरोहितों और हक-हकूकधारियों के दबाव के बाद उन्होंने अपना बया बदल लिया और मंगलवार होने वाली बैठक में फ़ैसला लेने की बात कही थी । 

बता दें कि पहले केदारनाथ धाम के कपाट खुलने का समय 29 अप्रैल तय हो गया था , लेकिन कोरोना के चलते इसके समय में बदलाव किया गया । खुद धर्मस्व मंत्री सतपाल महाराज ने कहा था कि अब केदारनाथ धाम के कपाट 14 मई को खोले जाएंगे , लेकिन अब इसको लेकर मंगलवार एक मंथन बैठक हुई । 


बीकेटीसी के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह की अध्यक्षता में पंचगद्दी स्थल ऊखीमठ में हुई बैठक में  ऊखीमठ एसडीएम भी शामिल हुए । इस बैठक में फैसला लिया गया कि शासन द्वारा सोशल डिस्टेन्स को लेकर जारी सभी निर्देशों का पालन किया जाएगा । वहीं बैठक में वेदपाठियों का कहना था कि बदरीनाथ और केदारनाथ की पूजा पद्धति बिल्कुल भिन्न है । बदरीनाथ में गर्भगृह में केवल रावल ही पूजा कर सकते हैं जो अभी क्वारेंटीन में हैं जबकि केदारनाथ धाम में रावल नहीं बल्कि उनके द्वारा निर्धारित शिष्य पूजा करते हैं । ऐसे में रावल के क्वारेंटीन में होने का भी कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

Todays Beets: