Thursday, July 18, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

केदारनाथ आपदा का कारण बनी चोराबाड़ी ताल एक बार फिर लबालब , 6 सालों में फिर बदला ताल का स्वरूप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केदारनाथ आपदा का कारण बनी चोराबाड़ी ताल एक बार फिर लबालब , 6 सालों में फिर बदला ताल का स्वरूप

रुद्रप्रयाग । देश-दुनिया को झकझोर देने वाली 2013 की केदारनाथ आपदा का जख्म कई परिवारों के तन-मन पर आज तक नजर आते हैं। लेकिन केदार घाटी में व्यापक तबाही मचाने वाले चोराबाड़ी ताल में इन 6 सालों में बड़ा बदलाव नजर आया है । जानकारी के मुताबिक यह ताल एक बार फिर से अपने पुराने स्वरूप में आ रहा है। एक बार फिर से यह ताल पानी से लबालब हो गया है । इस ताल के चारों तरफ ग्लेशियर है, जो टूट कर इस ताल में गिर रहे हैं और पिघल रहे हैं। इस सब के चलते भूस्खलन हो रहा है । इस ताल की मौजूदा स्थिति का जायजा लेने के लिए जल्द भू-वैज्ञानिक क्षेत्र का जायजा लेंगे । इतना ही नहीं जिला आपदा प्रबंधन की टीम भी चोराबाड़ी पहुंचकर वहां के हालातों का निरीक्षण कर रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपेगी।

जिले के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल का कहना है कि चोराबाड़ी ताल व पूरे क्षेत्र का भू-वैज्ञानिकों के माध्यम से अध्ययन किया जाएगा। इस बारे में वाडिया संस्थान के विशेषज्ञों से बातचीत हो रही है। साथ ही सिक्स सिग्मा के लोगों से भी वहां के बारे में पूरी जानकारी ली गई है।

औली में गुप्ता परिवार के शादी समारोह पर CM रावत बोले- विवाद बेवजह का , हम उत्तराखंड को वेडिंग डेस्टिनेशन के रूप में विकसित कर रहे

वर्ष 2013 की 16/17 जून की रात केदारनाथ में तबाही का अहम कारण बनी चोराबाड़ी ताल एक बार फिर से सक्रिय नजर आ रहा है । ताल के खुले मैदान में 2013 की घटना के बाद एक बार फिर से भरपूर पानी जमा हो गया है , जिसके चारों और काफी मोटी बर्फ की चादरें जमा हैं।


बता दें कि गत 15 जून को सिक्स सिग्मा के सीईओ डा. प्रदीप भारद्धाज के नेतृत्व में केदारनाथ से चोराबाड़ी पहुंची उनकी टीम ने पूरे क्षेत्र का जायजा लिया। डा. भारद्वाज ने बताया कि चोराबाड़ी में जगह-जगह पर भूस्खलन हो रहा है। साथ ही ग्लेशियर भी तेजी से चटक रहा है। आपदा में ताल का मुहाना (स्रोत) फूटने से जो मैदान बना था, वह इन दिनों पानी से लबालब भरा हुआ है। जमा पानी की गहराई करीब चार मीटर तक है। इसके आसपास बड़े बोल्डर और कई जगहों पर जमीन दरकने से पानी का बहाव भी कम है, जिससे निचले हिस्से को खतरा नहीं है।

कुमाऊं के नामी स्कूल-कॉलेजों में ड्रग्स बेचने वाला दबोचा , 25 हजार नशीली गोलियां - 14 हजार इंजेक्शन बरामद

वहीं भू विज्ञान के जानकार कहते हैं कि चोराबाड़ी ताल से केदारपुरी व मंदिर क्षेत्र को आने वाले कई दशकों तक किसी भी प्रकार के नुकसान की कोई संभावना नहीं है, लेकिन फोटो में जिस तरह से ताल के खुले हिस्से में पानी जमा दिख रहा है, उसका स्थलीय निरीक्षण व भूगर्भीय अध्ययन जरूरी है। जल्द यहां पहुंचकर इस पूरे क्षेत्र का सर्वेक्षण कर हालातों का जायजा लेंगे। भावी संभावनाओं को लेकर भी चोराबाड़ी ताल व ग्लेशियर का अध्ययन किया जाएगा।

 

Todays Beets: