Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

केदारनाथ के एसडीएम ने दिया इस्तीफा , लिखा - मैं इस इलाके में काम करने में असमर्थ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केदारनाथ के एसडीएम ने दिया इस्तीफा , लिखा - मैं इस इलाके में काम करने में असमर्थ

रुद्रप्रयाग । उत्तराखंड में स्थित चार धामों से एख केदारनाथ में तैनात SDM गौरव चटवाल ने अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया है । जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल को एक पत्र लिखते हुए उन्होंने अपने इस फैसले की जानकारी दी है । अपने इस पत्र में उन्होंने खुद को इस इलाके में काम करने में असमर्थ बताया है । बताया जा रहा है कि इस बार केदारनाथ धाम में अव्यवस्थाएं चरम पर हैं और अधिकारियों को इस सब के बीच अपनी नौकरी करने क लिए भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है । इस सब के बीच यात्रियों के बढ़ते दबाव के चलते अधिकारी खुद को तनाव में पा रहे हैं ।

जानकारी के मुताबिक , एसडीएम गौरव चटवाल ने  नौकरी छोड़ने की वजह उन्होंने केदारनाथ में ड्यूटी करने में असमर्थ होना बताई है । इससे संबंधित पत्र उन्होंने जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल को भेजा है , लेकिन इस दौरान खास बात ये कि वह नौकरी छोड़ने से पहले जिलाधिकारी से नहीं मिले और सीधे अपने घर चले गए हैं।

इतना ही नहीं अपर मुख्य सचिव कार्मिक को भेजे पत्र में एसडीएम चटवाल ने नौकरी छोड़ने की वजह भी लिखी है, उन्होंने लिखा है कि वह केदारनाथ में काम नहीं कर पाएंगे, ऐसा कर पाने में वह असमर्थ हैं. प्रशासन की ओर से मामले को छुपाने की काफी कोशिश की गई, लेकिन खबर छुप न सकी । वहीं, अधिकारियों के नौकरी छोड़ने को विपक्ष ने मुद्दा बनाना शुरू कर दिया है । विपक्ष ने इस मुद्दे पर राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कई आरोप लगाए हैं। विपक्ष की मानें तो सरकार चारधामों में व्यवस्थाएं जुटाने में नाकाम साबित हो रहा है ।  पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं कांग्रेस वरिष्ठ नेता मंत्री प्रसाद नैथाणी ने कहा कि बीजेपी सरकार में आम जनता त्रस्त है ।

 


 

 

 

 

Todays Beets: