Sunday, July 25, 2021

Breaking News

   बिहार: पटना में अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का भंडाफोड़, 2 गिरफ्तार     ||   जम्मू-कश्मीर: आतंकवादियों ने पुलिस कांस्टेबल की पत्नी और बेटी पर गोलियां चलाईं, दोनों जख्मी     ||   पेगासस मामला: दुनिया के 14 बड़े नेताओं की भी की गई जासूसी, PM इमरान समेत कई अन्य का लिस्ट में नाम     ||   जाकिर हुसैन मेमोरियल ट्रस्ट केस: कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की पत्नी के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी     ||   पेगासस मामला: शिवसेना ने की जेपीसी जांच की मांग, कहा- यह हमला आपातकाल से भी बदतर     ||   महाराष्ट्र सरकार ने भी HC से कही थी ऑक्सीजन की कमी से मौत ना होने की बात- अमित मालवीय     ||   नवजोत सिंह सिद्धू के आवास पर पहुंचे 62 MLA, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बोले- बदलाव की बयार     ||   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||

उत्तराखंड - दो दशक में 10 मुख्यमंत्री , कोई दल नहीं दे पाया मजबूत नेतृत्व , 11 सीएम के नाम पर आज लगेगी मुहर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड - दो दशक में 10 मुख्यमंत्री , कोई दल नहीं दे पाया मजबूत नेतृत्व , 11 सीएम के नाम पर आज लगेगी मुहर

देहरादून/ नई दिल्ली । उत्तराखंड की जनता के लिए यह बेहद दुखद है कि राज्य में कोई भी सरकार मजबूत नेतृत्व नहीं दे सकी , जिसके चलते राज्य के पिछले 21 सालों के इतिहास में 10 मुख्यमंत्री इस पद पर रहे , लेकिन अधिकांश अपने 5 साल के कार्यकाल को पूरा नहीं कर पाए । एक बार फिर से तीरथ सिंह रावत ने मात्र 115 दिन तक पद पर रहने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है । नए मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लगाने के लिए आज शाम विधायक दल की बैठक देहरादून में होगी । दिल्ली से केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बतौर पर्यवेक्षक देहरादून के लिए निकल गए हैं । लेकिन दुखद के है कि इतने बड़े संघर्ष के बाद अलग राज्य का दर्जा पाने वाले उत्तराखंड को ऐसे नेता नहीं मिल पाए , जो राज्य के विकास पर ध्यान दे पाते । अधिकांश समय मुख्यमंत्री अपने ही लोगों की राजनीति का शिकार हुए । दुखद है कि पिछले दो दशकों में राज्य में दो बार राष्ट्रपति शासन भी लागू हुआ । 

जाने दो दशकों में उत्तराखंड के 10 मुख्यमंत्रियों का कार्यकाल 

1    नित्‍यानन्‍द स्‍वामी    9 नवम्‍बर 2000 – 30 अक्‍टूबर 2001

2    भगत स‍िंह कोश्‍यारी    30 अक्‍टूबर 2001 – 2 मार्च 2002

3    नारायण दत्‍त तिवारी    2 मार्च 2002 – 8 मार्च 2007

4    भुवन चंद खंण्‍डूरी    8 मार्च 2007 – 23 जून 2009

5    रमेश पोखरियाल निशंक     23 जून 2009 – 10 सितम्‍बर 2011

6    भुवन चंद खंण्‍डूरी    11 सितम्‍बर 2011 – 13 मार्च 2012

7    विजय बहुगुणा    13 मार्च 2012 – 31 जनवरी 2014

8    हरीश रावत    1 फरवरी 2014 – 27 मार्च 2016

राष्‍ट्रपति शासन    27 मार्च 2016 – 21 अप्रैल 2016

9    हरीश रावत    21 अप्रैल 2016 – 22 अप्रैल 2016

राष्‍ट्रपति शासन    22 अप्रैल 2016 – 11 मई 2016


10    हरीश रावत    11 मई 2016 – 18 मार्च 2017

11    त्रि‍वेंद्र सिंह रावत    18 मार्च 2017 – 10 मार्च 2021

11    तीरथ सिंह रावत    10 मार्च 2021 – 2 जुलाई 2021

 

मदन कौशिक की अध्यक्षता में होगी बैठक

विदित हो कि आज शाम उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री (Uttarakhand New CM) के नाम पर मुहर लगाने के लिए बीजेपी विधायक दल की बैठक (BJP Legislature Party Meeting) आज (शनिवार को) दोपहर 3 बजे होगी। पार्टी के मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने बताया कि प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की अध्यक्षता में ये बैठक आयोजित की जाएगी । 

सीएम पद के लिए इनके नाम पर चर्चा

उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) के इस्तीफा देने के बाद राज्य के नए सीएम के नाम पर चर्चा शुरू हो गई है. इसमें सतपाल महाराज (Satpal Maharaj), धन सिंह रावत (Dhan Singh Rawat) और बिशन सिंह चुफाल का नाम शामिल है । 

किसी अनुभवी के हाथों सौंपेंगे कमान

भाजपा (BJP) के सूत्रों के हवाले से खबर आ रहा है कि इस बार भाजपा आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए उत्तराखंड (Uttarakhand) की कमान किसी अनुभवी चेहरे को सौंपेगी । ऐसी भी संभव है कि राज्य के विधायकों से इतर , भाजपा आलाकमान किसी नए चेहरे को राज्य की कमान सौंप सकता है । 

भाजपा के हाथ आई थी पहली बार राज्य की सत्ता की कमान

बता दें कि 9 नवंबर 2000 को जब उत्‍तराखंड देश के 27वें राज्‍य के रूप में वजूद में आया। उस दौरान यूपी विधानसभा और विधान परिषद में इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्‍व करने वाले 30 सदस्‍यों को लेकर अंतरिम विधानसभा का गठन किया गया। इस अंतरिम विधानसभा में भाजपा का बहुमत था, तो पहली अंतरिम सरकार बनाने का अवसर भी भाजपा को ही मिला। उस दौरान नित्‍यानंद स्‍वामी को अं‍तरिम सरकार का मुख्‍यमंत्री बनाया गया। इसके साथ ही नवगठित राज्‍य में सियासी अस्थिरता की बुनियाद भी पड गई। पार्टी में गहरे अंतरविरोध के कारण स्‍वामी अपना एक साल का कार्यकाल भी पूर्ण नहीं कर पाए और उन्‍हें पद छोड़ना पड़ा।

Todays Beets: