Tuesday, December 10, 2019

Breaking News

   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||   दिल्ली: राजनाथ सिंह के सामने आया शख्स, पीएम मोदी से मिलाने की मांग की     ||   उत्तराखंड के बद्रीनाथ में भारी हिमपात , तापमान माइनस पर पहुंचा    ||   नेपालः कास्की में कम्युनिस्ट पार्टी के बैठक स्थल के पास पार्किंग में धमाका     ||   राम मंदिर मामले में रिव्यू याचिका दायर करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड     ||   दिल्ली हाईकोर्ट ने मालविंदर सिंह और सुनील गोड़वानी को एक दिन की ED हिरासत में भेजा     ||   बीजेपी ने पार्टी महासचिव अरुण सिंह को यूपी से राज्यसभा उम्मीदवार बनाया     ||   पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 11 दिसंबर तक बढ़ाई गई     ||   INX मीडिया केस: पी चिदंबरम को झटका, दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका     ||   वकील VS पुलिस मामला: HC ने कहा- जांच पूरी होने तक पुलिस पक्ष से नहीं होगी गिरफ्तारी     ||

नैनीताल DM की पत्नी अस्पताल में बच्चे के इलाज के लिए आधा घंटा लाइन में खड़ी रहीं 

अंग्वाल संवाददाता
नैनीताल DM की पत्नी अस्पताल में बच्चे के इलाज के लिए आधा घंटा लाइन में खड़ी रहीं 

नैनीताल । उत्तराखंड के दमदार जिलाधिकारियों की सूची में अब नैनीताल के डीएम सविन बंसल का नाम भी जुड़ गया है । इन अफसरों के साथ इनके परिजनों ने भी वीवीआईपी कल्चर को बाय बाय करके एक मिसाल पेश की है । ताजा घटनाक्रम में नैतीताल के डीएम की पत्नी सुरभि बंसल अपने बच्चे का इलाज कराने के लिए बीडी पांडे अस्पताल में लाइन में लगी नजर आईं । इस दौरान न तो उन्होंने अपने ओहदे का इस्तेमाल किया , न ही वीवीआईपी कल्चर के तहत दल - बल के साथ अस्पताल पहुंचकर बच्चे का इलाज करवाया । वह आम मरीजों की तरह ही लाइन में लगी । यहां तक की आसपास मौजूद महिलाओं को इस बात का पता भी नहीं चल सका कि उक्त महिला जिले के डीएम की धर्मपत्नी है ।

उत्तराखंड : बेरोजगार रहें तैयार , 18 हजार से अधिक पदों पर भर्तियों के लिए जल्द खुलने वाले हैं द्वार 

चीड़ोवाली-कंडोली में खुला महिला कौशल प्रशिक्षण केंद्र , CM बोले - पुष्प उत्पादन, धूप-अगरबत्ती बनाने की दिशा में आगे आएं महिलाएं

बता दें कि जिलाधिकारी सविन बंसल की पत्नी सुरभि सुबह करीब 10 दस बजे अपने बच्चे को लेकर बीडी पांडेय अस्पताल पहुंची । इस दौरान न तो उनके साथ दल बल नजर आया और नहीं ही उन्होंने वीआईपी कल्चर के तहत कोई कृत्य किया । उन्होंने साधारण महिला के तौर पर लाइन में लगकर पर्ची कटवाई और इसके बाद करीब आधा घंटा लाइन में लगकर बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर एमएस रावत से अपने बच्चे का इलाज करवाया । हालांकि कुछ लोगों द्वारा डीएम की धर्मपत्नी के लाइन में लगकर पर्ची कटवाने और बच्चे को दिखाने की खबर जैसे ही अस्पताल परिसर में फैली, लोगों ने तालियां बजाकर उनके इस सादगी की जमकर तारीफ की । 


उत्तराखंड में बढ़ने जा रहे हैं 25 से 30 फीसदी सर्किल रेट, नई दरों का प्रस्ताव हुआ तैयार

हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब उत्तराखंड के जिलों में तैनाती पाने वाले जिलाधिकारी और परिजन अपने दमदार काम की बदौलत सुर्खियों में रहते हैं। इस क्रम में रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिडियाल भी अपने  बेहतर कार्यों के लिए सुर्खियों में बने रहते हैं। इसी क्रम में हरिद्वार के डीएम रहे दीपक रावत भी अपने कार्यों और व्यवहार के लिए लोगों के चहेते बने हुए हैं। हालांकि राज्य सरकार ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी देते हुए हरिद्वार में होने वाले कुंभ मेले का मेलाधिकारी बना दिया है।

 

 

Todays Beets: