Thursday, October 22, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

बॉर्डर पर अब नहीं दिखानी होगी कोविड जांच की रिपोर्ट , सिर्फ इन लोगों के लिए जरूरी होगा नियम

अंग्वाल संवाददाता
बॉर्डर पर अब नहीं दिखानी होगी कोविड जांच की रिपोर्ट , सिर्फ इन लोगों के लिए जरूरी होगा नियम

देहरादून । अब उत्तराखंड के बॉर्डर पर लोगों को अपनी कोरोना रिपोर्ट दिखाने का दबाव नहीं होगा । राज्य के बॉर्डर पर इस मुद्दे को लेकर हो रहे विरोध के मद्देनजर आखिरकार उत्तराखंड सरकार ने कदम पीछे खींच लिए हैं। अब बाहरी राज्यों से उत्तराखंड में आने वाले सभी लोगों के लिए बॉर्डर पर कोरोना की जांच जरूरी नहीं होगी। अब सिर्फ पर्यटन, फिल्म शूटिंग जैसी गतिविधियों वालों को ही नेगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। 

राज्य के स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने गुरुवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा कि यहां आने वाली गर्भवती महिलाओं, 10 साल से कम उम्र के बच्चे, बुजुर्ग कारोबारियों, बिजनेसमैन, वीआईपी, अधिकारियों एवं न्यायाधीशों को बॉर्डर पर जांच कराने की जरूरत नहीं है। घर पर किसी की मौत, बीमार होने, किसी काम से बाहर जाने के बाद वापस घर लौटने, परिजनों की देखभाल के लिए आने वाले लोगों के लिए बॉर्डर पर जांच अनिवार्य नहीं है।


वहीं प्रदेश के सीएम ने हाल में अपने एक बयान में कहा कि दूसरों राज्यों से उत्तराखंड आने वाले लोग जो तीन-चार दिनों के लिए आ रहे हैं, उनके लिए कोविड-19 टेस्ट की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा जारी गाइडलाइल्स का पालन करना अनियवार्य होगा। 

विदित हो कि दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों के बॉर्डर पर पेड कोरोना टेस्ट के मामले में गुरुवार को लोगों के विरोध के बाद प्रशासन को बैकफुट पर आना पड़ा। बाहर से आने वाले लोगों का पेड कोरोना टेस्ट शुरू होने के बाद लोगों ने विरोध शुरू कर दिया। लोगों का कहना था कि वे 2400 रुपये में टेस्ट कैसे कराएंगे। लोगों ने टेस्ट के पैसे देने से मना किया तो दोपहर करीब साढ़े बारह बजे प्रशासन दोबारा फ्री वाला एंटीजन टेस्ट शुरू कर दिया। 

Todays Beets: