Friday, September 20, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

पंचायती राज संशोधन नियमावली को हाईकोर्ट में चुनौती , 6 अगस्त को हो सकती है सुनवाई

अंग्वाल संवाददाता
पंचायती राज संशोधन नियमावली को हाईकोर्ट में चुनौती , 6 अगस्त को हो सकती है सुनवाई

देहरादून । उत्तराखंड ग्राम प्रधान एसोसिएशन ने सरकार की पंचायती राज संशोधन नियमावली को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। असल में पिछले दिनों त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार ने पंचायत चुनाव लड़ने के लिए जो नियमावली बनाई है उसके अंतर्गत अब चुनाव के लिए वे सभी पात्र अयोग्य माने जाएंगे , जिनके दो से अधिक बच्चे हैं। इतना ही नहीं चुनाव लड़ने के लिए आवेदक का हाईस्कूल पास होना भी अनिवार्य कर दिया गया है। इन नियमों के विरोध में एसोसिएशन ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है ।  एसोसिएशन का कहना है कि यदि किसी व्यक्ति की दो बेटियां और एक पुत्र है या दो पुत्र और एक पुत्री। यदि पुत्रियों की शादी हो गई हो तो उन्हें किस परिवार का हिस्सा माना जाए। इस मामले में हाईकोर्ट में मंगलवार यानी 6 अगस्त को सुनवाई हो सकती है । 

कोटाबाग निवासी मनोहर लाल आर्या ने उत्तराखंड ग्राम प्रधान एसोसिएशन की ओर से नैनीताल हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की है। आर्या का कहना है कि सरकार ने पंचायत राज एक्ट में संसोधन कर ग्राम प्रधान और अन्य पदों पर चुनाव लड़ने के लिए दो से अधिक बच्चे न होने और हाईस्कूल पास होना अनिवार्य कर दिया है। 


याचिका में कहा गया है कि इन संशोधनों को सरकार पुरानी तिथि से लागू कर रही है, जबकि इसे लागू करने से पहले 300 दिन का समय दिया जाना चाहिए था। उत्तराखंड पहाड़ी राज्य है। आर्या ने अपनी याचिका में कहा है कि यहां पर ग्राम प्रधान के लिए हाईस्कूल पास उम्मीदवार मिलना कठिन है।  

Todays Beets: