Friday, August 23, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

रामपुर तिराहा कांड - इलाहबाद हाईकोर्ट ने मांगी मुकदमों की प्रगति रिपोर्ट , 25 जनवरी को होगी सुनवाई 

अंग्वाल संवाददाता
रामपुर तिराहा कांड - इलाहबाद हाईकोर्ट ने मांगी मुकदमों की प्रगति रिपोर्ट , 25 जनवरी को होगी सुनवाई 

देहरादून । वर्ष 1994 के रामपुर तिराहा कांड मामले में इलाहबाद हाईकोर्ट ने रजिस्ट्रार जनरल को इस कांड से जुड़े मामलों की प्रगति रिपोर्ट प्रस्तु करने के आदेश दिए हैं। इलाहबाद हाईकोर्ट ने यह आदेश देहरादून निवासी रविंद्र जुगरान द्वारा कांड के 24 साल बाद भी इंसाफ नहीं मिलने संबंधि याचिका के संबंध में दिया है। इस याचिका पर कोर्ट में अगली सुनवाई 25 जनवरी है। जुगरान ने अपनी याचिका में रामपुर तिराहा कांड के चार मुकदमों को समयावधि में निस्तारित करने की मांग की गई है। 

बता दें कि 1 अक्टूबर 1994 को अपने लिए अलग राज्य की मांग करते हुए तत्कालीन यूपी के पहाड़ी जिलों के निवासियों पर यूपी पुलिस ने रामपुर तिराहे पर लाठीचार्ज के साथ फायरिंग की थी। ये लोग प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से संगठित होकर दिल्ली जा रहे थे। इस गोलीकांड में 7 लोगों की मौत हो गई थी जबकि कई लोग जख्मी हुए थे। एकाएक पुलिस के लाठीचार्ज और फायरिंग के बचने के लिए जंगलों की ओर भागी महिलाओं का शारीरिक शोषण भी किया गया था।

JEE Main1 Result 2019 : पल्लव सेमवाल बने टॉपर

उत्तराखंड राज्य गठन के बाद इस मामले में पीड़ित परिवारों को न्याय दिलवाने में न तो भाजपा और न ही कांग्रेस की सरकारों ने दिलचस्पी दिखाई न ही सीबीआई द्वारा कुछ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने के बाद कोई ठोस फैसला आया। इनमें से 3 मुकदमों की फाइल तब बंद हो गई , जिसमें आरोपी पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी। अब जो मुकदमे बचे हैं, उनमें कमजोर पैरोकारी का पूरा फायदा आरोपियों को मिल रहा है। 


पीएम MODI की बायोपिक के लिए लोकेशन देखने उत्तराखंड पहुंचे निर्देशक उमंग कुमार

इस मामले को लेकर देहरादून के रविंद्र जुगरान ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में रामपुर तिराहा कांड के चार मुकदमों को समयावधि में निस्तारित करने की मांग की गई है। 

केदारनाथ का जल्द बदला दिखेगा स्वरूप , मंदिर के पीछे पार्क में बैठकर निहार सकेंगे केदारपुरी का प्राकृतिक सौंदर्य 

 

Todays Beets: