Thursday, January 23, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

एसिड अटैक पीड़िताओं को पेंशन देगी उत्तराखंड सरकार! , ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य बनेगा

अंग्वाल संवाददाता
एसिड अटैक पीड़िताओं को पेंशन देगी उत्तराखंड सरकार! , ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य बनेगा

देहरादून । उत्तराखंड देश का पहला ऐसा राज्य बनने जा रहा है जो अपने यहां एडिट अटैक की पीड़ितों को पेंशन देगी । महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य के इस मुद्दे पर कहा कि अभी देश में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है कि एसिड अटैक पीड़िताओं को कोई आर्थिक राहत मिले । लेकिन उत्तराखंड में अब महिला सशक्तिकरण विभाग ने ऐसी पीड़िताओं को प्रतिमाह 7 से 10  हजार रुपये पेंशन देना का प्रस्ताव तैयार किया है। इस प्रस्ताव को आगामी कैबिनेट की बैठक में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि एसिड अटैक के बाद सरकारी और निजी श्रेत्र की कंपनियां उन्हें नौकरी देने से संकुचाती हैं, ऐसे में ऐसी महिलाओं की खराब आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए हमने यह प्रस्ताव तैयार किया है ।

महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि कुछ समय पहले देवभूमि में एसिड अटैक से पीड़ित कुछ महिलाएं मुझसे मिली थीं । इन महिलाओं का कहना था कि उनका सामाजिक और मानसिक उत्पीड़न हो रहा है। तेजाब हमले के बाद से सरकारी और निजी किसी भी क्षेत्र में उन्हें नौकरी देने से लोग डर रहे हैं। इससे उनकी आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो चुकी है। ऐसे में सरकार उनपर ध्यान दे । सरकार कोई ऐसी व्यवस्था करे जिससे उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो सके। 


इन महिलाओं की गुहार सुनने के बाद हमरी सरकार ने एक प्रस्ताव बनाया । उन्होंने कहा कि महिलाओं की इस समस्या को देखते हुए इनको पेंशन देने की योजना बनाई जा रही है। वर्तमान में राज्य में इस तरह की 11 महिलाएं हैं। प्रत्येक पीड़ित महिला को सात से दस हजार रुपये तक हर माह पेंशन देने का प्रस्ताव है। पेंशन दिए जाने से ऐसी महिलाओं को काफी हद तक मदद मिलेगी। 

बहरहाल , अभी इस प्रस्ताव को कैबिनेट से हरी झंडी मिलना बाकी है । अगर ऐसा होता है तो उत्तराखंड इस तरह की पहल करने वाला पहला राज्य होगा । वर्तमान में किसी भी प्रदेश में तेजाब पीड़ितों को पेंशन नहीं दी जा रही है। 

Todays Beets: