Monday, August 26, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

उत्तराखंड के इस युवा की सजगता से आपके बच्चे पर मंडरा रहा खतरा टला , एक छोटी पहल से बना बड़ा कानून

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के इस युवा की सजगता से आपके बच्चे पर मंडरा रहा खतरा टला , एक छोटी पहल से बना बड़ा कानून

देहरादून । उत्तराखंड के युवा RTI कार्यकर्ता अजय कुमार ने कुछ ऐसा कर दिया कि आज उनकी एक छोटी सी पहल , देश के लिए मिसाल बन गई है । असल में अजय ने पिछले दिनों खाद्य पदार्थों के पैकेटों में आने वाले खिलौनों को अनसेफ फूड करार दिए जाने की मांग की थी , क्योंकि ऐसे ही एक पैकेट में निकले खिलौने को निगल लेने से 2017 में आंध्र प्रदे  के गोदवरी जिले में इलुरानगर में एक बच्चे की मौत हो गई थी । इस मुद्दे को लेकर अजय ने पीएमओ को चिट्ठी भी लिखी थी । पीएमओ ने अजय के मुद्दे को गंभीरता से लिया और संबंधित विभागों को इससे संबंधित निर्देश दिए । इसके बाद एफएसएसएआई ने खाद्य पदार्थों के पैकेटों में आने वाले खिलौनों को अनसेफ फूड माना है। इसमें 6 माह से आजीवन कैद और एक लाख से 10 लाख तक का जुर्माना है।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड सरकार की मुफ्त तीर्थाटन योजना के लिए नहीं मिल रहे बुजुर्ग , विभाग ने आधा किया लक्ष्य

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में बढ़ रहा स्तन कैंसर , दून मेडिकल कॉलेज के अध्ययन में खुलासा , जागरुकता अभियान चलाने का फैसला

बता दें कि देहरादून के दूधली गांव निवासी आरटीआई कार्यकर्ता अजय कुमार की एक पहल से देश में एक बड़ा कानून बना है। असल में 2017 में ऐसे ही एक खिलौने के चलते एक बच्चे की मौत के बाद आरटीआई कार्यकर्ता अजय कुमार ने पीएम को एक चिट्ठी लिखी।  पीएमओ से 4 जनवरी 2018 एफएसएसएआई को प्रकरण की जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए गए। इस मामले को लेकर गत 19 जुलाई को अजय PMO गए और इस पर नियम बनाने की मांग की। 


इसके बाद पीएमओ के निर्देश पर 22 जुलाई को देश भर के आयुक्तों को प्लास्टिक खिलौने डाले जाने वाले खाद्य पदार्थों को अनसेफ फूड की कैटेगरी में मानकर कार्रवाई करने के आदेश दिए । इसमें कहा गया है कि खाने-पीने की चीजों में बच्चों को लुभाने के लिए प्लास्टिक खिलौने डाले जाने वाले खाद्य पदार्थों को अनसेफ फूड की कैटेगरी माना जाए। ऐसे उत्पादों पर कार्रवाई की जाए। 

ये भी पढ़ें -उत्तराखंड में स्टोन क्रशर की 'बंदरबाट' पर हाईकोर्ट सख्त , सरकार से कहा - हफ्ते में बताएं क्रशर देने से पहले राज्य प्रदूषण बोर्ड से अनुमति ली

ये भी पढ़ें - राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मसौदा हुआ पास हुआ तो 50 फीसदी पदों पर सीधे होगी प्रधानाचार्यों की भर्ती , निजी स्कूलों पर पड़ेगा ये असर

Todays Beets: