Friday, September 20, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

देहरादून - जनमानस की समस्याओं के निदान के लिए पंचायत रिसोर्स ट्रेनिंग सेंटर का शिलान्यास , 3.34 करोड़ की आएगी लागत

अंग्वाल संवाददाता
देहरादून - जनमानस की समस्याओं के निदान के लिए पंचायत रिसोर्स ट्रेनिंग सेंटर का शिलान्यास , 3.34 करोड़ की आएगी लागत

देहरादून । उत्तराखंड के सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को सहस्त्रधारा रोड स्थित पंचायतीराज निदेशालय में 03 करोड़ 34 लाख रूपये की अनुमानित लागत से बनने वाले स्टेट पंचायत रिसोर्स ट्रेनिंग सेंटर भवन का भूमि पूजन व शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि देहरादून में स्टेट पंचायत रिसोर्स ट्रेनिंग सेंटर भविष्य के लिए बड़ी जरूरत बनेगा। यह सेंटर पचायतों के लिए महत्वपूर्ण होगा व विभिन्न गतिविधियों के डाटा कलेक्शन का मजबूत आधार बनेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हरिद्वार में 02 अक्टूबर को हरिद्वार में रिसाइक्लिंग प्लांट का शिलान्यास होना है, इसके लिए भारत सरकार ने 03 करोड़ 80 लाख रूपये की सैद्धांतिक स्वीकृति दी है। हमारा प्रयास है कि उत्तराखण्ड प्लास्टिक से मुक्त हो। प्लास्टिक कचरे से ऊर्जा बनाने की दिशा में वैज्ञानिक जो कार्य कर रहे हैं, वह सराहनीय है।

इस दौरान सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में प्लास्टिक कचरे की समस्या को लेकर चिंता प्रकट की। भारत को प्लास्टिक कचरे से मुक्त करने के लिए भारत सरकार द्वारा भी अनेक प्रयास किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए जन सहयोग भी जरूरी है। हमें प्राकृतिक खेती की दिशा में कार्य करना होगा, इसके लिए किसानों में जनजागरूकता जरूरी है, इस दिशा में पंचायते महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं। केन्द्र सरकार ने इस बार देश में प्राकृतिक खेती के लिए बजट का प्राविधान भी किया है।


वहीं इस दौरान पंचायतीराज मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने कहा कि स्टेट पंचायत रिसोर्स ट्रेनिंग सेंटर का मुख्य उद्देश्य आम जन मानस की समस्याओं की हकीकत में जाकर उनका निदान करना है। सरकारी योजनाओं का आम जनमानस को लाभ मिले यही सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है। इस पंचायत रिसोर्स ट्रेनिंग सेंटर बनने से शहरों की तरह पंचायतों की समस्याओं के तुरंत निदान करने में मदद मिलेगी। पंचायतों को मजबूत बनाने के लिए ही सरकार ने पंचायत चुनाव लड़ने के लिए आरक्षित वर्ग के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता आठवीं पास और अनारक्षित को न्यूनतम शैक्षिक योग्यता हाईस्कूल की गई है।

Todays Beets: