Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

बीमार शिक्षकों पर मेहरबान हुए शिक्षा मंत्री, 15 जनवरी तक तबादला करने के दिए निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बीमार शिक्षकों पर मेहरबान हुए शिक्षा मंत्री, 15 जनवरी तक तबादला करने के दिए निर्देश

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने तबादला एक्ट के तहत बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत शिक्षा विभाग ने गंभीर रूप से बीमार 40 शिक्षकों का तबादला 15 जनवरी तक कर दिया जाएगा। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि इन शिक्षकों का चयन 1500 शिक्षकों में से किया गया है। उन्होंने बताया कि तबादला एक्ट के तहत गठित मुख्य सचिव समिति को इन शिक्षकों का प्रस्ताव भेजा जा चुका है। शिक्षा मंत्री ने बताया कि इन शिक्षकों का चयन गहन जांच के बाद किया गया है। 

गौरतलब है कि शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि बीमार शिक्षकों के रूप में विभाग को करीब 1500 शिक्षकों के आवेदन मिले थे। इन शिक्षकों की गहन मेडिकल जांच की गई। इस जांच में सिर्फ 40 ऐसे शिक्षकों का नाम सामने आया है जो गंभीर रूप से बीमार हैं। ऐसे में विभाग को इनका तबादला 15 जनवरी तक करने के निर्देश दिए हैं। 

ये भी पढ़ें- हरिद्वार के जसवीर बने युवाओं के लिए मिसाल, किसानी के साथ तराश रहे खिलाड़ी


यहां बता दें कि शिक्षा मंत्री के द्वारा लगाए गए जनता दरबार में बेरोजगार /प्रशिक्षित संगठनों द्वारा नौकरी की मांग या शिक्षकों के स्थानांतरण के संबंध में आए। टिहरी नरेंद्रनगर ब्लॉक के उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में कार्यरत सहायक अध्यापक मोहम्मद वानिश की 90 फीसदी विकलांगता को देखते हुए मंत्री ने उन्हें तत्काल कहीं और सम्बद्ध करने को कहा है। गौर करने वाली बात है कि जनता दरबार को ट्रांसपोर्टर के जहर खाने और शिक्षिका के द्वारा सीएम को अपशब्द कहने की घटना के बाद स्थगित कर दिया गया था। ऐसे में सुरक्षा के दृष्टिकोण से भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई थी। 

Todays Beets: