Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

भ्रष्टाचार पर सरकार का जीरो टाॅलरेंस, एनएच 74 घोटाले में शामिल 2 आईएएस अधिकारी निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भ्रष्टाचार पर सरकार का जीरो टाॅलरेंस, एनएच 74 घोटाले में शामिल 2 आईएएस अधिकारी निलंबित

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने भ्रष्टाचार पर अपनी जीरो टाॅलरेंस नीति का परिचय देते हुए एनएच 74 मुआवजा घोटाले में कार्रवाई करते हुए 2 वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पंकज पांडे और चंद्रेश कुमार को निलंबित कर दिया है।  इन अधिकारियांे पर जमीन अधिग्रहण में गड़बड़ी करने का आरोप है। फिलहाल दोनों अधिकारी अपर मुख्यसचिव कार्मिक कार्यालय में जुड़े रहेंगे। इन दोनों के खिलाफ जांच के लिए जल्द ही जांच अधिकारी तैनात किए जाएंगे। 

गौरतलब है कि ऊधमसिंह नगर में सितारगंज से बाजपुर के बीच एनएच 74 के चौड़ीकरण के लिए किसानों की जमीनें ली गई थीं। इनमें बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गई थी। अकृषि योग्य भूमि को भी कृषि योग्य बताकर सरकार को मुआवजा के  नाम पर करोड़ों रुपये का चूना लगाया गया था। इसे लेकर आयकर विभाग ने कई अधिकारियों के कार्यालय और घरों पर छापेमारी भी की गई है।

ये भी पढ़ें -चमोली के बाराहोती में एक फिर ‘ड्रैगन’ ने की घुसपैठ, 4 किलोमीटर तक आए अंदर


यहां बता दें कि एनएच 74 मुआवजा घोटाला की जांच एसआईटी कर रही है। अब उसकी रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई की गई है। दोनों अफसर मौजूदा समय में शासन में अपर सचिव के पद पर तैनात हैं। इससे पहले भी दोनों अधिकारियों से पूछताछ की गई थी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने खुद दोनों अफसरों के निलंबन की पुष्टि की है। बता दें कि एनएच 74 घोटाला करीब 300 करोड़ रुपये का है। इस मामले में अब तक करीब 20 से ज्यादा लोग जेल जा चुके हैं इनमें 5 पीसीएस अधिकारी भी शामिल हैं।  

 

Todays Beets: