Friday, August 23, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

कांग्रेस सरकार में सिडकुल के तहत हुए निर्माण कार्यों की जांच करेगी SIT , त्रिवेंद्र रावत सरकार ने जारी किए आदेश

अंग्वाल संवाददाता
कांग्रेस सरकार में सिडकुल के तहत हुए निर्माण कार्यों की जांच करेगी SIT , त्रिवेंद्र रावत सरकार ने जारी किए आदेश

देहरादून । उत्तराखंड की त्रिवेंद्र रावत सरकार ने पूर्व की कांग्रेस सरकार के मंत्रियों को घेरने के लिए एक बड़ी जांच के निर्देश दिए हैं। इस बार रावत सरकार ने उत्तराखंड राज्य औद्योगिक विकास निगम लिमिटेड यानी सिडकुल से जुड़े एक घोटाले की जांच के आदेश दिए हैं। खबरों के अनुसार, इस जांच के लिए SIT का गठन किया गया है। जानकारी के मुताबिक , एक आईजी स्तर का अफसर इस एसआईटी का नेतृत्व करेगा। पूर्व की हरीश रावत सरकार के कार्यकाल के दौरान सिडकुल के तहत हुए सभी निर्माण कार्यों की जांच के लिए इस एसआईटी का गठन किया गया है। इसके लिए गृह मंत्रालय ने पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी को चिट्ठी भेज दी है। 

बता दें कि वर्ष 2012 से 17 के बीच राज्य में कांग्रेस की हरीश रावत और विजय बहुगुणा सरकार थी। इस बीच खबरें हैं कि सिडकुल में निर्माण कार्यों के दौरान काफी अनियमितताएं हुई, जिसके पीछे एक बड़े घोटाले को अंजाम दिया गया। इस सब के बीच रूद्रपुर जिले में घोटाले को अंजाम देने की सबसे ज्यादा शिकायतें पिछले दिनों सामने आईं थीं। करोड़ों के इस घोटाले में पिछले साल ही रावत सरकार ने एक अफसर को निलंबित किया था। लेकिन अब इस पूरे घोटाले की जांच का जिम्मा एसआईटी को दिया गया है।


विदित हो कि कांग्रेस शासनकाल के दौरान एनएच 74 के भूमि मुआवजे को लेकर भी एक घोटाला उजागर हुआ था, जिसकी जांच एक अन्य एसआईटी कर रही है। इस घोटाले में भी कई अधिकारी समेत एक IAS अफसर निलंबित हो चुके हैं।

Todays Beets: