Tuesday, January 21, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

उत्तराखंड - अनधिकृत रूप से अनुपस्थित डॉक्टरों -कर्मचारियों की नियुक्तियां रद्द होगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड - अनधिकृत रूप से अनुपस्थित डॉक्टरों -कर्मचारियों की नियुक्तियां रद्द होगी

देहरादून । स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती ने सभी चिकित्साधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं कि वे लंबे समय से अनुपस्थित चल रहे डॉक्टरों की सेवाएं समाप्त कर उनकी जगह नई नियुक्तियां करें । निर्देश में कहा गया है कि 15 दिनों से अधिक समय से अनधिकृत रूप से अनुपस्थित चल रहे डॉक्टरों और कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अस्पतालों में गर्भवती और उनके तीमारदारों की सुविधा के लिए बर्थ वेटिंग होम खोलने को कहा । स्वास्थ्य महानिदेशक ने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं में लेखा और वित्तीय मामलों को सुव्यवस्थित करने के लिए अस्पतालों और मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालयों में लेखा कार्मिकों की तैनाती रहेगी। 

बता दें कि स्वास्थ्य महानिदेशक ने प्रदेश के मुख्य चिकित्साधिकारियों, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक व अधिकारियों के साथ एक बैठक कर स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने सभी चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिए कि जो डॉक्टर पिछले 15 दिनों से ज्यादा समय से अनधिकृत रूप से अनुपस्थित हैं , उनकी नियुक्तियां रद्द कर दी जाएं । उनकी जगह नई भर्तियां की जाएं । 


इसके साथ ही बिना अनुमति के अनुपस्थित चल रहे डॉक्टरों और कर्मचारियों को नोटिस जारी कर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए।  वहीं, अस्पतालों में तैनात बांड धारी डॉक्टरों की प्रत्येक माह सूचना दी जाए। उन्होंने सीएमओ को नियमित रूप से अस्पतालों का निरीक्षण करने के निर्देश दिए। आईपीएचएस मानकों के अनुसार सभी अस्पताल कार्य योजना बनाकर निदेशालय को भेजें। जल्द ही अस्पतालों में डॉक्टरों व नर्सों की नियुक्ति आईपीएचएस मानकों के तहत की जाएगी। 

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं में लेखा और वित्तीय मामलों को सुव्यवस्थित करने के लिए अस्पतालों और मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालयों में लेखा कार्मिकों की तैनाती रहेगी। विभाग में 45 वर्ष से कम आयु के लेखा कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जल्द प्रशिक्षण के लिए लेखा कर्मचारियों को नामित करें। 

Todays Beets: