Sunday, November 1, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

उत्तराखंड - अनधिकृत रूप से अनुपस्थित डॉक्टरों -कर्मचारियों की नियुक्तियां रद्द होगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड - अनधिकृत रूप से अनुपस्थित डॉक्टरों -कर्मचारियों की नियुक्तियां रद्द होगी

देहरादून । स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती ने सभी चिकित्साधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं कि वे लंबे समय से अनुपस्थित चल रहे डॉक्टरों की सेवाएं समाप्त कर उनकी जगह नई नियुक्तियां करें । निर्देश में कहा गया है कि 15 दिनों से अधिक समय से अनधिकृत रूप से अनुपस्थित चल रहे डॉक्टरों और कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अस्पतालों में गर्भवती और उनके तीमारदारों की सुविधा के लिए बर्थ वेटिंग होम खोलने को कहा । स्वास्थ्य महानिदेशक ने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं में लेखा और वित्तीय मामलों को सुव्यवस्थित करने के लिए अस्पतालों और मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालयों में लेखा कार्मिकों की तैनाती रहेगी। 

बता दें कि स्वास्थ्य महानिदेशक ने प्रदेश के मुख्य चिकित्साधिकारियों, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक व अधिकारियों के साथ एक बैठक कर स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने सभी चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिए कि जो डॉक्टर पिछले 15 दिनों से ज्यादा समय से अनधिकृत रूप से अनुपस्थित हैं , उनकी नियुक्तियां रद्द कर दी जाएं । उनकी जगह नई भर्तियां की जाएं । 


इसके साथ ही बिना अनुमति के अनुपस्थित चल रहे डॉक्टरों और कर्मचारियों को नोटिस जारी कर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए।  वहीं, अस्पतालों में तैनात बांड धारी डॉक्टरों की प्रत्येक माह सूचना दी जाए। उन्होंने सीएमओ को नियमित रूप से अस्पतालों का निरीक्षण करने के निर्देश दिए। आईपीएचएस मानकों के अनुसार सभी अस्पताल कार्य योजना बनाकर निदेशालय को भेजें। जल्द ही अस्पतालों में डॉक्टरों व नर्सों की नियुक्ति आईपीएचएस मानकों के तहत की जाएगी। 

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं में लेखा और वित्तीय मामलों को सुव्यवस्थित करने के लिए अस्पतालों और मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालयों में लेखा कार्मिकों की तैनाती रहेगी। विभाग में 45 वर्ष से कम आयु के लेखा कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जल्द प्रशिक्षण के लिए लेखा कर्मचारियों को नामित करें। 

Todays Beets: