Tuesday, June 2, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

उत्तराखंड सरकार ने गिराई भ्रष्ट - कामचोर कर्मचारियों पर गाज , ऐसे अफसर- कर्मी होंगे अनिवार्य सेवानिवृत्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड सरकार ने गिराई भ्रष्ट - कामचोर कर्मचारियों पर गाज , ऐसे अफसर- कर्मी होंगे अनिवार्य सेवानिवृत्त

देहरादून । उत्तराखंड सरकार ने यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार की तर्ज पर राज्य के भ्रष्ट और कामचोर कर्मचारियों को सबक सिखाने का फार्मूला लागू करने का ऐलान किया है । सरकार की ओर से राज्य के मुख्य सचिव को निर्देश जारी हुए हैं कि उत्तराखंड सरकार भी ऐसे अधिकारियों और कर्मचारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे , जो भ्रष्टाचार में लिप्त हैं या जो काम करने में अक्षम हैं । इतना ही नहीं जिन कर्मचारियों का ट्रैक रिकॉर्ड ठीक है उन कर्मचारियों को भी अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी जाए । सरकार के आदेश के बाद अब इस फैसले को अमल में लाने के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। इसी तर्ज पर मुख्य सचिव की ओर से भी कार्मिक विभाग को विभागवार ऐसे सभी अधिकारी कर्मचारियों को चिह्नित करने को कहा गया है ।

बता दें कि केंद्र सरकार ने पिछले दिनों कुछ भ्रष्ट आला अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति के आदेश दे दिए । इसके बाद यूपी की सरकार ने अपने राज्य के भ्रष्ट और कामचोर अफसरों और कर्मचारियों की एक सूची बनाने को कहा । हालांकि पिछले 2 साल के कार्यकाल के दौरान योगी सरकार ऐसे कई कर्मचारियों और अफसरों को बाहर का रास्ता दिखाने के साथ ही कई का प्रमोशन बंद कर चुकी है ।

उत्तराखंड आने -जाने वाले सावधान! , बारिश - भूस्खलन के बीच मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों के लिए जारी किया ऑरेंज अलर्ट

इसी क्रम में अब राज्य की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार इस मुद्दे को लेकर सक्रिय हो गई है । लेकिन इस बीच राज्य के कर्मचारी नेता सरकार की इस नीति को लेकर अभी से रणनीति बनाते नजर आ रहे हैं। हालांकि कार्मिक विभाग के लिए खराब ट्रैक रिकॉर्ड और अक्षम कार्मिकों को चुनना भी कोई आसान काम नहीं होगा ।


टिहरी झील में सी-प्लेन के लिए किया गया एमओयू , पिथौरागढ़ में बनेगा देश का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन

इस सब के बावजूद सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि निश्चितरूप से ऐसे लोग को चुना जाएगा । सीएम ने कहा कि आवश्यकता पड़ने पर ऐसे लोगों को अनिवार्य रिटायरमेंट दिया जा सकता है ।

 

Todays Beets: