Monday, March 30, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

'नमो' के जाप पर 'भागवत' कथा

प्रधानमंत्री पद के लिए भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के नाम का जाप करने के संबंध में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने बेंगलुरु में हुई संगठन की प्रतिनिधि सभा में जो कुछ भी कहा, क्या उसकी इस समय इतनी जरूरत थी? चुनावों की पूर्वसंध्या पर एक ऐसे समय, जब समूचे देश में गुजरात के मुख्यमंत्री के नाम की लहर चल रही है, मोहन भागवत का संघ के प्रतिनिधियों को मोदी-केंद्रित उद्बोधन आश्चर्यचकित करने वाला है। चुनावों को लेकर संघ और भाजपा का जितना भी सामर्थ्य दांव पर लगा है, उसे देखते हुए तो अपेक्षा यही की जा सकती थी कि संघ के कार्यकर्ताओं का मोहन भागवत यही आह्वान करेंगे कि "नमो-नमो" का जाप और भी जोर से करो। संघ प्रमुख के उद्बोधन और उसके बाद दिए जा रहे स्पष्टीकरणों से यही ध्वनि उभरती है कि भागवत भारतीय जनता पार्टी के चुनाव "प्रचार" के साथ तो संघ के कार्यकर्ताओं को जोड़े रखना चाहते हैं, पर "नमो" के "प्रसार" से दूरी बनाना चाहते हैं। पर संघ प्रमुख ने अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में ज्यादा देरी कर दी है। नरेंद्र मोदी, "नमो" के जाप से काफी आगे पहुंच गए हैं। इस बात में संदेह है कि अपने व्यस्त चुनाव प्रचार कार्यक्रम से समय निकालकर पूर्व प्रचारक मोदी नागपुर पहुंचकर मोहन भागवत से उनके बेंगलुरु उद्बोधन के बाद कोई मार्गदर्शन लेना चाहेंगे।
  

Todays Beets: