Thursday, April 9, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

ये हैं वो फैसले जिसकी वजह से यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार बनी है सुर्खियों में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ये हैं वो फैसले जिसकी वजह से यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार बनी है सुर्खियों में

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी ने उत्तरप्रदेश में प्रचंड बहुमत हासिल किया है। कई नेताओँ के नाम पर अटकलों के बीच योगी आदित्यनाथ को सूबे की कमान सौंपी गई। बस फिर क्या था...भाजपा में मोदी-मोदी के नारों की गूंज के बीच योगी-योगी की गूंज भी सुनाई देने लगी है। सत्ता की कमान संभालने के बाद एक से एकाएक हर जगह योगी-योगी ही सुनाई देने लगा है। यूपी की योगी सरकार लगातार सुर्खियां बटोर रही है, न सिर्फ अपने प्रदेश में बल्कि दूसरे राज्यों में भी। इसकी मुख्य वजह है यूपी सरकार द्वारा लिए जा रहे ताबड़तोड़ फैसले। भाजपा की सरकार अपने चुनावी घोषणाओं को एक-एक कर अमलीजामा पहना रही है। इसके लिए राज्य की जनता से उसे काफी तारीफ भी मिल रही है। आइए जानते हैं कि योगी सरकार ने इतने कम दिनों में कौन-कौन से ऐसे फैसले लिए जिसे जनता पूरे प्रदेश के लिए अच्छा मानती है। 

एंटी रोमियो स्कवाॅड-

उत्तरप्रदेश में आए दिन महिलाओं और लड़कियों के साथ छेड़-छाड़ की घटनाएं सामने आती थी लेकिन प्रशासन उनपर कोई कार्रवाई नहीं करती थी। योगी सरकार ने अपने पहले ही फैसले में एंटी रोमियो स्कवाॅड का गठन किया जो महिला स्कूल और काॅलेजों के आसपास चक्कर लगाने वाले शोहदों और मनचलों पर नकेल कस सके। सरकार के इस फैसले को लेकर महिलाओं और लड़कियों में काफी खुशी है। अब वे बिना किसी डर के अपने स्कूल और काॅलेज आ-जा सकती हैं।

पुलिस पर राजनीतिक दवाब नहीं-

योगी सरकार ने अपने एक अन्य फैसले में स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं पर पुलिस पर किसी तरह का दवाब न डालने को कहा है। मुख्यमंत्री ने नेताओं को थानेदारांे के तबादले और उनकी कार्रवाई में हस्तक्षेप न करने के भी निर्देश दिए हैं।

किसानों के कर्ज माफ-

उत्तरप्रदेश सरकार ने अपनी पहली कैबिनेट में ही किसानों के 1 लाख रुपये तक के  फसली कर्ज माफ कर दिए गए। गौरतलब है कि चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री ने सरकार बनने की सूरत में कर्जमाफी का वादा किया था। योगी सरकार की इस घोषणा से छोटे किसानों में काफी खुशी है। किसानों का कहना है कि सरकार ने अपना कहा वादा पूरा किया भले ही थोड़ा हो।


सरकारी डाॅक्टरों पर नकेल-

केजीएमयू में वेंटीलेटर का लोकार्पण करने के बाद योगी आदित्यनाथ ने राज्य में बेहतर सरकारी स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने पर काफी जोर दिया। उन्होंने सरकारी अस्पतालों में तैनात डाॅक्टरों को खबरदार करते हुए कहा कि वे निजी प्रैक्टिस करने की बजाय अस्पतालों में ही अपनी सेवाएं दें ताकि मरीजों को बेहतर सेवाएं मिल सके। 

शिक्षकों पर भी शिकंजा-

ऐसा आमतौर पर देखा जाता है कि उत्तरप्रदेश और बिहार में कोचिंग धड़ल्ले से चल रहे हैं। शिक्षक स्कूलों में शुरुआती दिनों में अपनी पढ़ाई की कला दिखाकर बच्चों को अपने कोचिंग सेंटरांे की तरफ खींचने की कोशिश करते हैं। सरकारी स्कूलों और काॅलेजों में पढ़ाने वाले शिक्षकों पर शिकंजा कसते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सरकारी स्कूलों में पढ़ाई में कोताही बरतने वालों पर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। वहीं नकल पर लगाम कसने के लिए उन्होंने ऐसे परीक्षा केंद्रों की सूची बनाने के लिए कहा है और साथ ही ऐसे परीक्षा केंद्रों को ब्लैक लिस्ट करने के लिए कहा है, जहां नकल में मामले उजागर होते रहे हैं। इतना ही नहीं ऐसे केंद्रों के खिलाफ एफआइआर भी दर्ज करवाई जाएगी।

बिजली सेवा होगी दुरूस्त-

राज्य में बिजली की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए भी योगी सरकार ने अहम फैसला लिया है। उत्तरप्रदेश के शहरों में सरकार ने चौबीसों घंटे बिजली देने और ग्रामीण इलाकों में 18 घंटे तक बिजली की सुविधा देने का ऐलान किया है। योगी आदित्यनाथ सरकार ने परीक्षा के समय हर जगह चौबीसों घंटे बिजली देने की घोषणा की है। 

तीन तलाक का मसला-

उत्तरप्रदेश में बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाएं रोज मुख्यमंत्री से मिलने आ रही हैं। सिर्फ इसलिए की उनके पति ने उन्हें तीन बार तलाक कहकर छोड़ दिया है। अब वे कहां जाएं। मुस्लिम महिलाओं को योगी सरकार से उम्मीदें हैं। मुख्यमंत्री भी उनकी परेशानियों को सुन रहे हैं। अब उन्होंने इसके लिए मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को इसके निराकरण का जिम्मा सौंपा है। 

Todays Beets: