Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

बिना हिचकिचाहट के करें सोशल मीडिया पर कमेंट्स, बीमा कंपनी करेगी रिस्क कवर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिना हिचकिचाहट के करें सोशल मीडिया पर कमेंट्स, बीमा कंपनी करेगी रिस्क कवर

अब आप सोशल साइट्स पर बेझिझक कमेंट्स कर सकते हैं। अगर आप अभी तक यह सोचकर कमेंट नहीं कर रहे थे कि इसके लिए कोई आप पर मानहानि का केस कर देगा और आपको लाखों रुपये हर्जाने के तौर पर देना होगा तो टेंशन फ्री हो जाइए। अब एक ऐसी इंश्योरेंस पाॅलिसी आ गई है जो इस तरह के रिस्क कवर करेगी। जी हां बजाज आलियांज एक ऐसी इंश्योरेंस पाॅलिसी लेकर आई है जो सोशल मीडिया पर कमेंट्स से जुड़ी समस्या होने पर रिस्क कवर करेगी।

 बजाज आलियांज इंश्योरेंस के अधिकारी ने बताया कि अगर कोई सोशल मीडिया पर किए गए कमेंट्स की वजह से मुकदमे में फंस जाता है और उसे हर्जाना देना पड़ता है तो इस हालत में साइबर इंश्योरेंस पाॅलिसी प्रोडक्ट पूरे हर्जाने का वहन करेगा। कंपनी इस तरह की व्यक्तिगत साइबर कवर पाॅलिसी लाने पर भी विचार कर रही है। 


बड़े उद्योगपति अपनी प्रतिष्ठा, डाटा और अन्य जानकारियों से कोई छेड़छाड़ न कर सके, इसे देखते हुए बाजार में व्यक्तिगत साइबर इंश्योरेंस पाॅलिसी की मांग बढ़ती जा रही है। इंटरनेट के बढ़ते इस्तेमाल की वजह से आज बड़े लोगों के कारोबार से जुड़ी ज्यादातर जानकारी ई-काॅमर्स वेबसाइट पर उपलब्ध रहती है। ऐसे में व्यक्तिगत साइबर इंश्योरेंस पाॅलिसी के जरिए फिशिंग, डेटा की चोरी, अकाउन्ट हैकिंग होने पर रिस्क कवर देगी। 

अभी ज्यादातर साइबर इंश्योरेंस पाॅलिसी बड़े-बड़े आईटी फर्म और दवाई बनाने वाली कंपनियों को दी जा रही है। हिन्दुस्तान में ये पाॅलिसी पिछले तीन सालों से उपलब्ध है और बाजार में इसकी मांग में लगातार इजाफा हो रहा है। ऐसा माना जा रहा है कि भारत में अभी करीब 500 एक्टिव साइबर कवर पाॅलिसी हैं और इसके 1000 तक होने का अनुमान है। इंश्योरेंस कंपनियों का मानना है कि आने वाले समय में इस तरह की पाॅलिसी में और इजाफा होने वाला है।

insurance   social   media   cyber   policy   business   data   fishing   theft   

Todays Beets: