Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

दून-ऋषिकेश के बीच सीधी रेल लाइन कब ?

दून-ऋषिकेश के बीच सीधी रेल लाइन कब ?
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

देहरादून. देहरादून और ऋषिकेश को रेल सेवा से जोड़ने काप्रस्ताव सालों बाद भी अधर में लटका है। अंग्रेजों के जमाने से लंबित पड़ी इसयोजना से न सिर्फ यातायात व्यवस्था पर भारी असर पड़ रहा है बल्कि पर्यटन के लिहाजसे राज्य की आर्थिकी को भी धक्का पहुंच रहा है । दून-ऋषिकेश सीधी रेल लाइन के लिएऋषिकेश और आसपास के क्षेत्रों की जनता ने इसे बनाने की मांग उठाई। लेकिन सरकारोंके उपेक्षित रवैये की वजह से यह मुहिम आगे नहीं बढ़ पाई।


तीर्थ नगरी से तकरीबन हज़ारों लोग रोजानदेहरादून, सेलाकुई और आसपास की जगहों पर आवाजाही करते हैं। यात्री या तो अपनेवाहनों से इस दूरी को तय करते हैं या फिर बस से करीब डेढ़ घंटे का सफर कर दूनपहुंचते हैं। दूसरी सबसे बड़ी परेशानी की वजय यह कि ऋषिकेश और देहरादून के बीचसड़क मार्ग आए दिन हाथियों के चलते बाधित रहता है, जिस कारण सड़क पर घंटों जाम लगरहता है। ऐसे में जरूरत है की अंग्रेजों के जमाने से अधर में लटका ऋषिकेश-देहरादून रेल प्रोजेक्ट को हरी झंडी मिले। ताकी राज्य के इन दो प्रमुख शहरों कोआपस में जोड़ा जा सके।

  

Todays Beets: