Wednesday, January 20, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

एक देवता ऐसे, जो युगों से कैदखाने में हैं बंद

एक देवता ऐसे, जो युगों से कैदखाने में हैं बंद
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

देहरादून. उत्तराखंड , एक ऐसा राज्य जहां धार्मिकमान्यताओं और रीति रिवाजों की अलग छठा देखने को मिलती है। हर जगह का महत्व अलग, हरमंदिर की मान्यता अलग, धर्म की इसी खूबसूरती को अपने में संजोए हुई है देवभूमि। चमोलीके देवाल ब्लाक में स्थित लाटू देवता का मंदिर एक ऐसी ही मिसाल है। साल में केवलएक बार कुछ घंटों के लिए खुलने वाले इस मंदिर का अपना ही एक अलग इतिहास है। मंदिर की खास बात यह है कि यहांश्रृद्धालु तो दूर खुद पुजारी भी भगवान के दर्शन नहीं कर पाते हैं। पुजारी आंखों औमुंह पर पट्टियां बांधकर लाटू देवता की पूजा अर्चना करते हैं। मंदिर से कोई अंदर नदेखे इसके लिए मंदिर के मुख्य कपाट पर पर्दा लगाया जाता है।

मान्यता है कि देवी पार्वती के साथ जबभगवान शिव का विवाह हुआ तो पार्वती (नंदा देवी ) को विदा करने के लिए सभी भाई कैलाशकी ओर चले। इसमें चचेरे भाई लाटू भी शामिल थे। रास्ते लाटू को इतनी प्यास लगी किपानी के लिए इधर-उधर भटकने लगे। इस बीच उन्हें एक बुजुर्ग बुड़िया का घर दिखा औरपानी की तलाश में घर के अंदर पहुंच गए। बुजुर्ग ने लाटू देवता से कहा कि कोने मेंमटका है पानी पी लो। संयोग से वहां दो मटके रखे थे। लाटू देवता ने एक मटके कोउठाया और पूरा का पूरा मटका खाली कर दिया। प्यास के कारण लाटू समझ नहीं पाए किजिसे वह पानी समझकर पी गए वह पानी नहीं मदिरा था। कुछ देर में मदिरा ने असर दिखानाशुरु कर दिया और लाटू देवता नशे में उत्पात मचाने लगे। इसे देखकर देवी पार्वतीक्रोधित हो गई और लाटू को कैद में डाल दिया। पार्वती ने आदेश दिया कि इन्हें हमेशाकैद में ही रखा जाए। माना जाता है कि कैदखाने में लाटू देवता एक विशाल सांप के रुपमें विरामान रहते हैं।


वांण क्षेत्र में लाटू देवता के प्रतिलोगों में अटूट श्रद्धा है। दूर- दूर से लोग अपनी मनोकामना लेकर लाटू के मंदिर मेंआते हैं। कहते हैं यहां मांगी गई दुआ कभी खाली नहीं जाती।

  

Todays Beets: