Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

एक देवता ऐसे, जो युगों से कैदखाने में हैं बंद

एक देवता ऐसे, जो युगों से कैदखाने में हैं बंद
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

देहरादून. उत्तराखंड , एक ऐसा राज्य जहां धार्मिकमान्यताओं और रीति रिवाजों की अलग छठा देखने को मिलती है। हर जगह का महत्व अलग, हरमंदिर की मान्यता अलग, धर्म की इसी खूबसूरती को अपने में संजोए हुई है देवभूमि। चमोलीके देवाल ब्लाक में स्थित लाटू देवता का मंदिर एक ऐसी ही मिसाल है। साल में केवलएक बार कुछ घंटों के लिए खुलने वाले इस मंदिर का अपना ही एक अलग इतिहास है। मंदिर की खास बात यह है कि यहांश्रृद्धालु तो दूर खुद पुजारी भी भगवान के दर्शन नहीं कर पाते हैं। पुजारी आंखों औमुंह पर पट्टियां बांधकर लाटू देवता की पूजा अर्चना करते हैं। मंदिर से कोई अंदर नदेखे इसके लिए मंदिर के मुख्य कपाट पर पर्दा लगाया जाता है।

मान्यता है कि देवी पार्वती के साथ जबभगवान शिव का विवाह हुआ तो पार्वती (नंदा देवी ) को विदा करने के लिए सभी भाई कैलाशकी ओर चले। इसमें चचेरे भाई लाटू भी शामिल थे। रास्ते लाटू को इतनी प्यास लगी किपानी के लिए इधर-उधर भटकने लगे। इस बीच उन्हें एक बुजुर्ग बुड़िया का घर दिखा औरपानी की तलाश में घर के अंदर पहुंच गए। बुजुर्ग ने लाटू देवता से कहा कि कोने मेंमटका है पानी पी लो। संयोग से वहां दो मटके रखे थे। लाटू देवता ने एक मटके कोउठाया और पूरा का पूरा मटका खाली कर दिया। प्यास के कारण लाटू समझ नहीं पाए किजिसे वह पानी समझकर पी गए वह पानी नहीं मदिरा था। कुछ देर में मदिरा ने असर दिखानाशुरु कर दिया और लाटू देवता नशे में उत्पात मचाने लगे। इसे देखकर देवी पार्वतीक्रोधित हो गई और लाटू को कैद में डाल दिया। पार्वती ने आदेश दिया कि इन्हें हमेशाकैद में ही रखा जाए। माना जाता है कि कैदखाने में लाटू देवता एक विशाल सांप के रुपमें विरामान रहते हैं।


वांण क्षेत्र में लाटू देवता के प्रतिलोगों में अटूट श्रद्धा है। दूर- दूर से लोग अपनी मनोकामना लेकर लाटू के मंदिर मेंआते हैं। कहते हैं यहां मांगी गई दुआ कभी खाली नहीं जाती।

  

Todays Beets: