Wednesday, April 1, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

एक देवता ऐसे, जो युगों से कैदखाने में हैं बंद

एक देवता ऐसे, जो युगों से कैदखाने में हैं बंद
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

देहरादून. उत्तराखंड , एक ऐसा राज्य जहां धार्मिकमान्यताओं और रीति रिवाजों की अलग छठा देखने को मिलती है। हर जगह का महत्व अलग, हरमंदिर की मान्यता अलग, धर्म की इसी खूबसूरती को अपने में संजोए हुई है देवभूमि। चमोलीके देवाल ब्लाक में स्थित लाटू देवता का मंदिर एक ऐसी ही मिसाल है। साल में केवलएक बार कुछ घंटों के लिए खुलने वाले इस मंदिर का अपना ही एक अलग इतिहास है। मंदिर की खास बात यह है कि यहांश्रृद्धालु तो दूर खुद पुजारी भी भगवान के दर्शन नहीं कर पाते हैं। पुजारी आंखों औमुंह पर पट्टियां बांधकर लाटू देवता की पूजा अर्चना करते हैं। मंदिर से कोई अंदर नदेखे इसके लिए मंदिर के मुख्य कपाट पर पर्दा लगाया जाता है।

मान्यता है कि देवी पार्वती के साथ जबभगवान शिव का विवाह हुआ तो पार्वती (नंदा देवी ) को विदा करने के लिए सभी भाई कैलाशकी ओर चले। इसमें चचेरे भाई लाटू भी शामिल थे। रास्ते लाटू को इतनी प्यास लगी किपानी के लिए इधर-उधर भटकने लगे। इस बीच उन्हें एक बुजुर्ग बुड़िया का घर दिखा औरपानी की तलाश में घर के अंदर पहुंच गए। बुजुर्ग ने लाटू देवता से कहा कि कोने मेंमटका है पानी पी लो। संयोग से वहां दो मटके रखे थे। लाटू देवता ने एक मटके कोउठाया और पूरा का पूरा मटका खाली कर दिया। प्यास के कारण लाटू समझ नहीं पाए किजिसे वह पानी समझकर पी गए वह पानी नहीं मदिरा था। कुछ देर में मदिरा ने असर दिखानाशुरु कर दिया और लाटू देवता नशे में उत्पात मचाने लगे। इसे देखकर देवी पार्वतीक्रोधित हो गई और लाटू को कैद में डाल दिया। पार्वती ने आदेश दिया कि इन्हें हमेशाकैद में ही रखा जाए। माना जाता है कि कैदखाने में लाटू देवता एक विशाल सांप के रुपमें विरामान रहते हैं।


वांण क्षेत्र में लाटू देवता के प्रतिलोगों में अटूट श्रद्धा है। दूर- दूर से लोग अपनी मनोकामना लेकर लाटू के मंदिर मेंआते हैं। कहते हैं यहां मांगी गई दुआ कभी खाली नहीं जाती।

  

Todays Beets: