Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

टिहरी बांध : सुविधा या सवाल

टिहरी बांध : सुविधा या सवाल

टिहरी बांध परियोजना ... भारत की नदी घाटी परियोजनाओं में सबसे अहम।उत्तराखण्ड के टिहरी ज़िले में बना यह बांध एशिया का सबसे बड़ा और विश्व कापांचवां सबसे ऊंचा बांध है। भागीरथीनदी पर बने लगभग 261 मीटर की ऊंचाई वाले इस डैम से 2400 मेगा वाट बिजली उत्पादन, 2,70,000 हेक्टर क्षेत्र की सिंचाई और हर दिन 102.20 करोड़ लीटर पानी उत्तराखंडसमेत दिल्ली, उत्तर प्रदेश को मिल सकेगा। हालांकि परियोजना को सफल बनाने के लिए राज्यऔर केंद्र सरकार की ओर से करोड़ों रू. खर्च किए जा रहे हैं। बावजूद डेम परियोजनाको अपने-अपने चश्मे से देक रहे हैं। दरअसल, यह परियोजनाहिमालय के केंद्रीय क्षेत्र में स्थित है। यहां आस-पास 6.8 से 8.5 तीव्रता केभूकंप आने का खतरा है , ऐसा होने पर बांध के टूटने के कारणऋषिकेश, हरिद्वार, बिजनौर, मेरठ और बुलंदशहर जैसेबड़े शहर जलमग्न हो जाएंगे। शायद यही वजह है कि सुंदरलाल बहुगुणा जैसे कईपर्यावरणविदों ने इस परियोजना का का विरोध किया है। हालांकि इस परियोजना कासकारात्मक रूप देखा जाए,तो 2050 तक देश में थर्मल बिजली खत्महो जाएगी, कोयला खत्म हो जाएगा, तब बसपानी से बिजली पैदा होगी। जिससे उत्तारखंड को भी एक बड़ा फायदा मिलेगा, क्योंकि उत्तराखण्ड जो बिजली उत्पादन करता है उसका करीब 12 प्रतिशत हिस्साही उसे मिलता है, बाकी बिजली या तो केन्द्र को दी जाती है याएजेंसी/ठेकेदार को जाती है। बहरहाल, इस बात में कड़वी सच्चाईहै कि जब बड़े बांध बनेंगे, तो आसपास बसे इलाकों में कुछसमस्याएं होती हैं,खैर उम्मीद करते हैं कि टिहरी बांधपरियोजना इन तमाम सवालों को पिछे छोड़ लोगों को बिजली और पेयजल की सुविधा उपलब्धकरायेगा।


  

Todays Beets: