Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

उत्तराखंड है मजबूर, आज भी विकास से है दूर !

उत्तराखंड है मजबूर, आज भी विकास से है दूर !
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

देहरादून, टीम अंग्वाल, 13 मई

राज्य निर्माण के लगभग 15 सालों बाद भी उत्तराखंड अपने पांव परखड़ा नहीं हो पा रहा है। प्राकृतिक चुनौतियों और राजनीतिक उथपथल से जूझ रहा यहराज्य आर्थिक रूप से बेहद कमज़ोर है। अगर पर्यटन को छोड़ दिया जाए, तो प्रदेश में ऐसा कोई व्यवसाय, रोजगारके लिहाज से कामयाब नज़र नहीं आता। मैदानी इलाकों में तो फिर भी युवाओं के लिएरोटी कमाने के इक्का दुक्का साधन नज़र आते हैं, लेकिनपहाड़ों में हालात बेहद खराब हैं। पल-पल रंग बदलता मौसम और घड़ी-घड़ी आती प्राकृतिकविपदाओं से दो-चार होते ग्रामीण न चाह कर भी पलायन करने को मजबूर हैं। ऊंचाई वालेइलाकों में ऐसे कई गांव जो सर्दियों के दिनों में विरान और सुनसान हो जाते हैं।पहाड़ी प्रदेश की इस विकट स्थिती का जिम्मेदार सरकारी नुमाईंदों को कहें तो गलतनहीं होगा।

भ्रष्टाचार, लापरवाही और संवाद की कमी के चलतेराजनेता अपने विधानसभा क्षेत्रों के भौगोलिक और सामरिक परिस्थितियों से रूबरू हीनहीं हो पाते। अधिकारी वर्ग से उन्हें जो जानकारी हासिल भी होती है वही भी आधीअधूरी होती है। जिसका खामियाजा आज राज्य का हर वो शख्स भुगत रहा है। जिसने अलगराज्य के निर्माण की मांग को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला था।


राज्य को विकास की पटरी पर आगे बढ़ानेके लिए प्रदेश सरकार ने कई योजनाएं चलाईं। धार्मिक स्थलों के साथ साथ साहसिकपर्यटन को बढ़ावा देने पर जोर दिया जा रहा है। ताकी ज्यादा से ज्यादा सैलानियों कोउत्तराखंड की ओर आकर्षित किया जा सके। बावजूद इसके राज्य आज भी विकास की पटरी परआगे नहीं दौड़ पा रहा है। ऐसे में जरूरत है कि हम राज्य निर्माण के लिए उठाए जारहे अपने प्रयासों को सही दिशा में आगे बढ़ाएं, ताकीउत्तराखंड के विकास को नई दिशा मिल सके।

 

  

Todays Beets: