Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

सरकार की नोटबंदी के फैसले पर लोगों की राय, कुछ के लिए अच्छा तो कुछ के लिए बुरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकार की नोटबंदी के फैसले पर लोगों की राय, कुछ के लिए अच्छा तो कुछ के लिए बुरा

नई दिल्ली। सरकार ने नोटबंदी की घोषणा कर दी। इसके बाद हर रोज खबरों में ये बात आ रही है कि सैकड़ों लोग दिन हो या रात बैंकों और एटीएम की लाइनों में खड़े हैं। कई जगहों से बुजुर्गों की मौत की खबरें भी आईं। मैने कई लोगों से पूछा कि सरकार का यह फैसला कैसा है? लोगों ने जो जवाब दिए वो मैं आपको बताता हूं।

फैसला अच्छा पर थोड़ी दिक्कत

अपने पड़ोस के एक लड़के से यह सवाल पूछने पर वो बोला, भाई क्या बताऊं, घर में दो मरीज हैं। उनको इलाज के लिए अस्पताल ले जाता हूं। इलाज का पेमेंट तो कार्ड से हो जाता है लेकिन सुबह से शाम तक कई बार भूखे ही रहना पड़ता है क्योंकि अस्पताल की कैंटीन में कार्ड से पेमेंट नहीं होता है वहां कैश मांगते हैं। तब थोड़ी दिक्कत होती है। हालांकि सरकार का फैसला अच्छा है। नौजवानों में इस फैसले को लेकर काफी खुशी है। उनका मानना है कि आने वाले वक्त में सबकुछ अच्छा होगा।

छोटे व्यापारी को हो रहा नुकसान


थोड़ी देर यहां-वहां घूमने के बाद मैंने एक छोटे व्यापारी से यही सवाल किया तो उसने कहा, मेरे ज्यादातर ग्राहक छोटे और कम पैसे कमाने वाले लोग हैं। अब उनके हाथों में पैसे हैं नहीं तो उसका असर व्यापार तो पड़ ही रहा है। हमें रोज हजार रुपये का नुकसान हो रहा है। मैं तो यही कहूंगा कि सरकार को फैसला लेने से पहले एक बार गहराई से सोचना चाहिए था।

किसानों की हालत बुरी

जब एक किसान से इस बारे में पूछा तो वे तो काफी गुस्सा हो गए। वो तो कहने लगे कि मोदी जी ने तो कहा था कि किसानों को उनकी लागत का दोगुना दाम मिलना चाहिए। यहां तो स्थिति ऐसी हो गई है कि अब तो किसान ही नहीं बचेंगे। फल और सब्जियां खराब हो रहे हैं। कई बार तो ऐसा लगता है कि मोदी को वोट देकर ही गलत कर दिया। अब देखो कब तक हालात बदलते हैं। सरकार को जल्दी से जल्दी नकदी की व्यवस्था करनी चाहिए ताकि जिन लोगों के लिए यह कदम उठाया गया है उनतक तो फायदा पहुंचे!

Todays Beets: