Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

अंग्वाल संवाददाता
डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय के 70 से ज्यादा कॉलेजों ने पिछली बार शिक्षकों की नियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी किए थे, लेकिन कॉलेजों की तरफ से उन विज्ञापित पदों पर इंटरव्यू नहीं लिये गए। इन विज्ञापित नियुक्तियों पर करीब 2 लाख लोगों ने अपलाई किया था। इस मामले पर अब डीयू के जॉइंट रजिस्ट्रार ने सभी कॉलेजों को लेटर लिखकर विवाद खड़ा न करने को कहा है। साथ ही कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने के लिए भी कह दिया गया है। आवेदन की यह फीस 250 से 500 रुपये थी।

 


 

बता दें कि हर कॉलेज ने 15 से 20 विषयों के लिए आवेदन मांगे थे। बड़ी संख्या में लोगों ने इन नियुक्ति के लिए आवेदन किए थे, लेकिन कुछ समस्याओं के चलते इंटरव्यू नहीं हो पाए थे। ऐकडेमिक काउंसिल के सदस्य डॉ हंसराज ने बताया कि इस पूरे मामले को काउंसिल की बैठक में उठाया गया था। यह बात वर्ष 2015 की है, हर कॉलेज के पास 20 से 25 लाख रुपये आवेदन फीस के जमा हो गए थे। कॉलेजों ने यह भी साफ नहीं किया था कि एकत्रित हुए फीस को फंड को कॉलेज के अकाउंट में रखा गया था या नहीं।

Todays Beets: