Saturday, February 16, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

चिकित्सा से जुड़े सभी क्षेत्रों के लिए ‘नीट’ होगा जरूरी, स्वास्थ्य मंत्रालय कर रहा विचार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चिकित्सा से जुड़े सभी क्षेत्रों के लिए ‘नीट’ होगा जरूरी, स्वास्थ्य मंत्रालय कर रहा विचार

नई दिल्ली। मेडिकल और डेंटल कोर्स के लिए होने वाली परीक्षा एनईईटी (नीट) को अब दूसरी मेडिकल नर्सिग और पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों के लिए भी इस्तेमाल किए जाने की संभावना है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसके लिए अलग-अलग पक्षें से विचार विमर्श कर रहा है। मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार नीट से ही आयुर्वेद, यूनानी, होम्योपैथी और सिद्ध कालेजों में प्रवेश को अनिवार्य किए जाने पर विचार चल रहा है। 

कई तरह की परीक्षाओं से मिलेगी निजात

गौरतलब है कि सभी तरह की मेडिकल परीक्षा के लिए अगर ‘नीट’ जरूरी कर दिया जाता है तो छात्रों को हर क्षेत्र के लिए अलग से परीक्षा नहीं देनी पड़ेगी। मेडिकल और डेंटल के बाद अब इसे फार्मेसी और पैरामेडिकल से जुड़े कई अन्य पाठ्यक्रम के अलावा नर्सिग कोर्स और वेटनरी डॉक्टरी के पाठ्यक्रम में भी दाखिले के लिए नीट लागू करने का प्रस्ताव है। मेडिकल कॉलेजों में चलने वाले बीएससी कोर्स में भी नीट से नामाकंन किया जा सकता है। इससे विद्यार्थियों को एक से अधिक प्रवेश परीक्षाओं से निजात मिलेगी। वहीं इससे मेडिकल पाठ्यक्रमों में योग्य उम्मीदवारों की ही भर्ती हो पाएगी। 

ये भी पढ़ें - अब हेमकुंड साहिब से भी आप कह सकते हैं ‘हैलो’, बीएसएनएल ने लगाया अपना टावर


मंत्रालय कर रहा विचार

आपको बता दें कि अभी नीट को मेडिकल एवं डेंटल में नामाकंन के लिए ही इस्तेमाल किया जाता है लेकिन दोनों पाठ्यक्रमों में नामाकंन के लिए कटऑफ अंक अलग-अलग होते हैं। ऐसे में नीट का अलग कटआॅफ बनाकर इसकी रेंकिंग का इस्तेमाल किया जा सकता है। स्वास्थ्य मंत्रालय अभी आयुष मंत्रालय और दूसरे पक्षों से इस पर बात कर रहा है। अगर सहमति बन जाती है तो छात्रों को कई तरह की परीक्षा देने से निजात मिल जाएगी। 

 

Todays Beets: