Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

चिकित्सा से जुड़े सभी क्षेत्रों के लिए ‘नीट’ होगा जरूरी, स्वास्थ्य मंत्रालय कर रहा विचार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चिकित्सा से जुड़े सभी क्षेत्रों के लिए ‘नीट’ होगा जरूरी, स्वास्थ्य मंत्रालय कर रहा विचार

नई दिल्ली। मेडिकल और डेंटल कोर्स के लिए होने वाली परीक्षा एनईईटी (नीट) को अब दूसरी मेडिकल नर्सिग और पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों के लिए भी इस्तेमाल किए जाने की संभावना है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसके लिए अलग-अलग पक्षें से विचार विमर्श कर रहा है। मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार नीट से ही आयुर्वेद, यूनानी, होम्योपैथी और सिद्ध कालेजों में प्रवेश को अनिवार्य किए जाने पर विचार चल रहा है। 

कई तरह की परीक्षाओं से मिलेगी निजात

गौरतलब है कि सभी तरह की मेडिकल परीक्षा के लिए अगर ‘नीट’ जरूरी कर दिया जाता है तो छात्रों को हर क्षेत्र के लिए अलग से परीक्षा नहीं देनी पड़ेगी। मेडिकल और डेंटल के बाद अब इसे फार्मेसी और पैरामेडिकल से जुड़े कई अन्य पाठ्यक्रम के अलावा नर्सिग कोर्स और वेटनरी डॉक्टरी के पाठ्यक्रम में भी दाखिले के लिए नीट लागू करने का प्रस्ताव है। मेडिकल कॉलेजों में चलने वाले बीएससी कोर्स में भी नीट से नामाकंन किया जा सकता है। इससे विद्यार्थियों को एक से अधिक प्रवेश परीक्षाओं से निजात मिलेगी। वहीं इससे मेडिकल पाठ्यक्रमों में योग्य उम्मीदवारों की ही भर्ती हो पाएगी। 

ये भी पढ़ें - अब हेमकुंड साहिब से भी आप कह सकते हैं ‘हैलो’, बीएसएनएल ने लगाया अपना टावर


मंत्रालय कर रहा विचार

आपको बता दें कि अभी नीट को मेडिकल एवं डेंटल में नामाकंन के लिए ही इस्तेमाल किया जाता है लेकिन दोनों पाठ्यक्रमों में नामाकंन के लिए कटऑफ अंक अलग-अलग होते हैं। ऐसे में नीट का अलग कटआॅफ बनाकर इसकी रेंकिंग का इस्तेमाल किया जा सकता है। स्वास्थ्य मंत्रालय अभी आयुष मंत्रालय और दूसरे पक्षों से इस पर बात कर रहा है। अगर सहमति बन जाती है तो छात्रों को कई तरह की परीक्षा देने से निजात मिल जाएगी। 

 

Todays Beets: